myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भनिरोधक इंजेक्शन एक ऐसा इंजेक्शन है जिसमें या तो प्रोजेस्टिन (सिंथेटिक प्रोजेस्टोजेन) अकेले या फिर प्रोजेस्टिन और एस्ट्रोजन दोनों हार्मोन साथ में होते हैं, जो आपके शरीर को अंडे का उत्पादन करने से रोकते हैं और गर्भाशय की ग्रीवा में श्लेष्म (म्यूकस) को गाढ़ा करते है।

आपको इस इंजेक्शन का एक शॉट महीने में एक बार या फिर हर तीन महीनों में एक बार अपने डॉक्टर से लगवाना पड़ता है। हालाँकि एक बार लगा दिया तो फिर इंजेक्शन के प्रभाव को रोकना मुश्किल है।

गर्भनिरोधक इंजेक्शन का काम करने का तरीका गर्भनिरोधक गोली या गर्भनिरोधक रिंग की तरह ही है बस इसमें आपको रोज या हफ्ते में लेने की याद रखने की जरुरत नहीं होती है। हालाँकि जो महिलाएं इंजेक्शन से डरती हैं, उनके लिए यह अच्छा उपाय नहीं है।

(और पढ़े - गर्भ रोकने के उपाय)

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि गर्भनिरोधक इंजेक्शन क्या होता है, ये कैसे उपयोग किये जाते हैं। साथ ही गर्भनिरोधक इंजेक्शन के प्रकार और फायदे तथा लाभ के बारे में भी बताया गया है। आप यह भी जानेंगे कि गर्भनिरोधक इंजेक्शन की कीमत कितनी होती है।

  1. गर्भनिरोधक इंजेक्शन क्या है - What is the Contraceptive Injection in hindi
  2. गर्भनिरोधक इंजेक्शन के प्रकार - Types of Contraceptive Injection in hindi
  3. गर्भनिरोधक इंजेक्शन कैसे उपयोग करें - Contraceptive Injection method in hindi
  4. गर्भनिरोधक इंजेक्शन के फायदे - Contraceptive Injection benefits in hindi
  5. गर्भनिरोधक इंजेक्शन के नुकसान - Contraceptive Injection side effects in hindi
  6. गर्भ निरोधक इंजेक्शन प्राइस - Contraceptive Injection price in hindi

गर्भनिरोधक इंजेक्शन को डेपो भी कहा जाता है। जैसा की ऊपर बताया गया है कि यह प्रोजेस्टोजेन (स्टेरॉयड हार्मोन का एक वर्ग है जो प्रोजेस्टेरोन रिसेप्टर्स को सक्रिय करके जोड़ता है) हार्मोन का इंजेक्शन होता है। प्रोजेस्टोजेन अंडाशय द्वारा बनाए जाने वाले हार्मोन के समान ही होता है।

गर्भनिरोधक इंजेक्शन (डेपो-प्रोवेरा, सायना प्रेस और नोरिस्टेरट) गर्भ धारण करने से रोकने के लिए आपके खून की नसों में प्रोजेस्टोजेन हार्मोन छोड़ते हैं। अगर इन इंजेक्शन का सही तरह से उपयोग किया जाता है तो ये 99 प्रतिशत प्रभावी उपाय है। इसका असर 8 से 13 सप्ताह तक रहता है, इसलिए आपको रोज गर्भ निरोधक के बारे में सोचना नहीं पड़ता है।

यह उन महिलाओं के लिए सबसे उपयोगी है जिनको रोजाना गर्भनिरोधक गोली लेने की याद रखनी पड़ती है। इसमें आपको केवल यह ध्यान रखना है कि यह इंजेक्शन का प्रभाव कब तक रहेगा। यह उन महिलाओं के लिए भी उपयोगी है जो एस्ट्रोजन वाले गर्भनिरोधक उपयोग नहीं कर सकती है।

(और पढ़े - कॉपर टी का उपयोग कैसे करे)

महिलाओं में गर्भधारण को रोकने के लिए गर्भनिरोधक इंजेक्शन को समय-समय पर दिया जाता है। इसके निम्नलिखित तीन प्रकार हैं -

डेपोट-मेड्रोक्सी प्रोजेस्टेरोन एसीटेट (डीएमपीए)
यह गर्भ निरोधक इंजेक्शन का सबसे आम प्रकार है जो हर जगह उपयोग किया जाता है। इसका 150 एमजी का इंजेक्शन तीन महीनों में एक बार लगाया जाता है। भारत में इसे ही डेपो-प्रोवेरा कहा जाता है।

नोरथिनड्रोन ऐननथाट (एनईटी-ईएन) (Norethindrone Enanthate (NET-EN))
इस इंजेक्शन की 200 एमजी की खुराक 2 महीने में एक बार लगायी जाती है। अभी भारत में यह नहीं मिलता है।

कंबाइंड एस्ट्रोजन एंड पप्रोजेस्टिन
इसे मासिक इंजेक्शन या मंथली इंजेक्शन भी कहा जाता है। इसे साइक्लोफेम, साइक्लोप्रोवेरा और मेसीग्यन के नाम से जाना जाता है। ये सभी हर महीने में एक बार लगने वाले इंजेक्शन हैं जिनमें 25 एमजी डेपो मेड्रोक्सी प्रोजेस्टेरोन एसीटेट और 5 एमजी एस्ट्रडिओल सीपीओनेट पाया जाता है। ये भी अभी तक भारत में नहीं मिलते हैं।

आमतौर पर डेपो-प्रोवेरा और नोरिस्टेरट इंजेक्शन कूल्हे पर लगाए जाते हैं किंतु यदि आप चाहे तो इन्हें अपनी बाँह पर भी लगवा सकते है।

सायना प्रेस इंजेक्शन को पेट पर या जांघ पर लगवा सकते हैं। ये इंजेक्शन लगाना खुद भी सिख सकते हैं लेकिन यह ध्यान रखें कि गर्भनिरोधक इंजेक्शन का उपयोग डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही किया जाना चाहिए।

ये इंजेक्शन आप मासिक चक्र के दौरान कभी भी लगवा सकती हैं, जब तक कि आप गर्भवती नहीं है। अगर आप अपने मासिक चक्र के शुरुआती पांच दिनों में इंजेक्शन लगवाती हैं तो आपको गर्भ धारण नहीं होगा।

(और पढ़े - पीरियड के दौरान शारीरिक संबंध)

यदि मासिक चक्र के किसी अन्य दिन में इंजेक्शन लगवाती हैं तो आपको 7 दिन तक अतिरिक्त गर्भनिरोधक का भी उपयोग करना पड़ेगा जैसे कि कंडोम।

(और पढ़ें - कंडोम का इस्तेमाल)

गर्भनिरोधक इंजेक्शन के फायदे निम्नलिखित हैं -

गर्भनिरोधक इंजेक्शन के नुकसान निम्नलिखित हैं -

  • कोई भी साइड इफ़ेक्ट जब तक इंजेक्शन का असर रहेगा तब तक रह सकता है या इससे अधिक समय तक भी रह सकता है।
  • आपके मासिक चक्र के सामान्य होने में और आपके गर्भवती होने योग्य बनने में लगभग एक वर्ष तक का समय लग सकता है।
  • आपके मासिक धर्म में बदलाव होने से यह अनियमित मासिक धर्म, ज्यादा खून आना, बहुत हल्का, मासिक धर्म कम या पूरी तरह रुक सकता है। आपके द्वारा इंजेक्शन लेना छोड़ने के बाद भी कुछ महीनों तक यह असर रह सकता है।
  • यह आपको एसटीडी से सुरक्षित नहीं रखता है।
  • आपको मुँहासे, मूड में बदलाव​, सेक्स की इच्छा में कमीबाल झड़ना और सिरदर्द जैसे प्रभाव भी हो सकते हैं।
  • कुछ लोगों में डेपो-प्रोवेरा या सायना प्रेस इंजेक्शन के लेने से वजन बढ़ने की समस्या हो सकती है।

भारत में केवल डेपो-प्रोवेरा गर्भनिरोधक इंजेक्शन ही उपलब्ध है जिसकी कीमत लगभग 250-300 रुपये के आस-पास होती है।

आप चाहे तो भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी गर्भनिरोधक उपलब्ध करवाने की योजना का लाभ ले सकती हैं। इसके अंतर्गत पहले पांच प्रकार के गर्भनिरोधक शामिल थे, किंतु अब सरकार ने इंजेक्शन को भी इसमें शामिल कर लिया है जो मुफ्त में उपलब्ध करवाएं जायेंगे।

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

और पढ़ें ...