myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

जैसे ही किसी महिला को पता चलता है कि उन्होंने गर्भधारण कर लिया है और वो मां बनने वाली हैं तो पहली चीज जिस पर उनका ध्यान जाता है वो है किसी भी चीज को खाने ये पीने से पहले 2 बार सोचना। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस तरह के कई खाद्य पदार्थ हैं जिनका सेवन करना गर्भावस्था से पहले तो आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित था, लेकिन अब आपके और आपकी गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए शायद सुरक्षित न हो। लिहाजा उन सारी चीजों को स्कैन करना बेहद जरूरी है जिनका सेवन आप कर रही हैं क्योंकि प्रेगनेंसी में कई बार छोटी दिखने वाली समस्या भी गंभीर जटिलता का कारण बनती है। ऐसी ही एक चीज है- सौंफ

(और पढ़ें - गर्भावस्था में डाइट चार्ट)

ज्यादातर भारतीय घरों में खाना खाने के बाद माउथ फ्रेशनर के तौर पर सौंफ का इस्तेमाल किया जाता है। बहुत सी डिशेज और मिठाइयों में भी सौंफ को डाला जाता है क्योंकि इसका फ्लेवर खाने के स्वाद को और निखारने का काम करता है। सौंफ के पानी को पाचन के लिए भी बेहतर माना जाता है। वजन घटाने में मदद करने के साथ ही, सौंफ हड्डियों और स्किन के लिए भी फायदेमंद है, दांत दर्द की समस्या ठीक करती है और कई तरह की बीमारियों को दूर रखने में भी मदद करती है। इतने सारे फायदों के बावजूद आपके मन में यह सवाल जरूर होगा कि क्या प्रेगनेंसी के दौरान सौंफ का सेवन करना सुरक्षित है?

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में ड्राई फ्रूट्स खाने के फायदे नुकसान)

  1. क्या प्रेग्नेंसी में सौंफ खाना चाहिए? - Pregnancy me saunf khana chahiye ya nhi?
  2. प्रेग्नेंसी में सौंफ खाने के फायदे - Pregnancy me saunf khane ke fayde
  3. प्रेग्नेंसी में सौंफ खाने के नुकसान - Pregnancy me saunf khane ke nuksan

तो इसका जवाब ये है कि गर्भावस्था के दौरान बेहद कम मात्रा में सौंफ का सेवन करना चाहिए क्योंकि सौंफ को ऐसी जड़ी बूटी माना जाता है जो पेल्विक क्षेत्र में और गर्भाशय में खून के प्रवाह को बढ़ाता है और महिलाओं में प्राकृतिक रूप से मासिक धर्म को उत्तेजित करने का काम करता है (emmenagogue)। साधारण शब्दों में समझें तो इसका मतलब ये हुआ कि सौंफ, मेन्स्ट्रुअल ब्लड फ्लो को सक्रिय करता है जिससे गर्भावस्था के दौरान योनि से रक्तस्त्राव होने का खतरा बना रहता है जिससे मिसकैरेज होने की आशंका बनी रहती है। इस दृष्टिकोण से देखें तो गर्भावस्था में सौंफ का सेवन हानिकारक हो सकता है। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में मूंगफली खानी चाहिए या नहीं)

इसके अलावा कई अध्ययनों में यह भी देखा गया है कि प्रेगनेंसी में सौंफ खाने से गर्भ में पल रहे भ्रूण के वजन पर असर पड़ता है और जन्म के वक्त बच्चे का वजन कम हो सकता है। हालांकि अलग-अलग महिलाओं में इसका असर अलग-अलग हो सकता है। लिहाजा गर्भावस्था के दौरान सौंफ का सेवन करने से पहले इस बारे में अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें कि आपको इसे खाना चाहिए या नहीं।

हर भारतीय किचन में मिलने वाला यह मसाला सौंफ कई तरह के औषधीय गुणों से भरपूर है जिसका सेवन करने के कई फायदे भी हैं। लिहाजा अगर गर्भवती महिलाएं सीमित मात्रा में सौंफ का सेवन करें तो यह निम्नलिखित कारणों से उनके लिए फायदेमंद हो सकता है:

  • गर्भावस्था के दौरान अक्सर महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस यानी जी मिचलाने और उल्टी आने की समस्या होती है खासकर प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही के दौरान। ऐसे में सौंफ की चाय इस समस्या को दूर करने में आपकी मदद कर सकती है। इसके अलावा सौंफ की चाय थकान दूर करने में भी मदद करती है जो गर्भावस्था के दौरान होने वाली बेहद कॉमन समस्या है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान बड़ी संख्या में महिलाओं को पेट फूलने और पेट में गैस की भी दिक्कत हो जाती है, ऐसे में सौंफ जो पाचन को बेहतर बनाने के लिए जानी जाती है, इस समस्या को दूर करने में भी मदद कर सकती है। (और पढ़ें- गर्भावस्था में पेट में गैस बनने की समस्या)
  • प्रेग्नेंसी के दौरान ऐसिडिटी, अपच या बदहजमी और सीने में जलन जैसी पाचन संबंधी समस्याएं होना बेहद सामान्य सी बात है। ऐसे में सौंफ का सेवन करने से इन दिक्कतों को दूर करने में मदद मिलती है।
  • कई बार गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की खाना खाने की इच्छा कम हो जाती है और भूख नहीं लगती। ऐसे में सौंफ, भूख को बढ़ाने में भी मदद करती है क्योंकि गर्भवती महिला का अच्छी तरह से भोजन करना उसके और बच्चे दोनों के लिए जरूरी है। (और पढ़ें - गर्भावस्था में भूख न लगने का कारण)

फायदों के बारे में तो जान लिया अब हम आपको प्रेग्नेंसी में सौंफ खाने के नुकसान के बारे में बताते हैं:

  • सौंफ, खून का थक्का जमने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। ऐसे में अगर गर्भवती महिला को रक्तस्त्राव से जुड़ी कोई बीमारी हो तो उन्हें गर्भावस्था के दौरान सौंफ का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर इस दौरान किसी तरह की चोट लग जाए तो खून बहना खतरनाक हो सकता है।
  • जिन महिलाओं की स्किन बेहद संवेदनशील होती है, उन्हें भी सौंफ का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से गर्भावस्था के दौरान स्किन बेहद संवेदनशील और ड्राई हो जाती है जिससे समस्याएं बढ़ सकती हैं। (और पढ़ें- गर्भावस्था के दौरान स्किन की देखभाल)
  • गर्भावस्था के दौरान अधिक मात्रा में सौंफ का सेवन करने से समय से पहले गर्भाशय में संकुचन की समस्या शुरू हो सकती है। लिहाजा जहां तक संभव हो बेहद सीमित मात्रा में ही सौंफ का सेवन करें।
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ