• हिं
  • हिं

चिकन पॉक्स, वेरिसेला जोस्टर (Varicella zoster) नामक वायरस के कारण होने वाला एक इन्फेक्शन है। ये ज्यादातर एक हल्का संक्रमण होता है, जिसमें खुजली, थकान, बुखार के साथ चेहरे, पीठ, हाथ और पैर में चकत्ते हो जाते हैं जो बाद में फफोले बन जाते हैं। कुछ लोगों को चिकनपॉक्स में सिरदर्द भी महसूस होता है। चिकनपॉक्स के फफोले 4 से 5 दिनों में सूखकर अपने आप झड़ जाते हैं, हालांकि रोगी को पूरी तरह से ठीक होने में 10 दिन से 3 हफ़्तों तक का समय लग सकता है।

ये इन्फेक्शन ज्यादातर बच्चों को ही होता है और ये बहुत ही आसानी से फैल जाता है। चिकनपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को छूने से या उसके छींकने व खांसने से भी फैल जाता है। कुछ गंभीर मामलों में, अगर खराब रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण चिकनपॉक्स ठीक न हो, तो इसमें व्यक्ति को फफोले, निमोनिया और दिमाग की सूजन जैसी जटिलताएं भी अनुभव हो सकती हैं। ऐसी स्थिति में रोगी को तुरंत अस्पताल ले जाने की आवश्यकता होती है।

सामान्य तौर पर, चिकनपॉक्स से बचाने के लिए बच्चों का टीकाकरण किया जाता है। होम्योपैथी में, कुछ बहुत असरदार दवाएं हैं, जो चिकनपॉक्स के लक्षणों को बिना किसी जटिलताओं के ठीक करती हैं। चिकनपॉक्स के इलाज के लिए ऐकोनाइट (Aconite), एंटीमोनियम क्रूडम (Antimonium crudum), बेलाडोना (Belladonna), पल्सेटिला (Pulsatilla) और सल्फर (Sulphur) जैसी दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है।

(और पढ़ें - चिकन पॉक्स वैक्सीन क्या है)

  1. होम्योपैथी में चिकन पॉक्स का इलाज कैसे होता है - Homeopathy me chicken pox ka ilaj kaise hota hai
  2. चिकन पॉक्स की होम्योपैथिक दवा - Chicken pox ki homeopathic dawa
  3. होम्योपैथी में चिकन पॉक्स के लिए खान-पान और जीवनशैली के बदलाव - Homeopathy me chicken pox ke liye khan-pan aur jeevanshaili ke badlav
  4. चिकन पॉक्स के होम्योपैथिक इलाज के नुकसान और जोखिम कारक - Chicken pox ke homeopathic ilaj ke nuksan aur jokhim karak
  5. चिकन पॉक्स के होम्योपैथिक उपचार से जुड़े अन्य सुझाव - Chicken pox ke homeopathic upchar se jude anya sujhav
चिकन पॉक्स की होम्योपैथिक दवा और इलाज के डॉक्टर

चिकनपॉक्स, गतिविधियों और क्षमता को सीमित कर देने वाली एक बीमारी है, लेकिन लक्षणों से आराम के लिए होम्योपैथिक उपचार लिया जा सकता है, जिससे रोगी की रोग प्रतिरोधक क्षमता सुधरेगी। कई बच्चों को चिकनपॉक्स से बचाव के लिए टीका लगाया जाता है। हालांकि, एक अध्ययन के अनुसार, इस टीके के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। इसीलिए, टीका लगवाने से बेहतर होम्योपैथिक उपचार है, क्योंकि इससे कुछ समय के लिए व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, खासकर महामारी के समय। (और पढ़े - एमएमआर टीका क्या है)

होम्योपैथिक दवाओं को बीमारी होने से पहले दिया जा सकता है जैसे वायरस के लिए उसके प्रतिजन वाला टीका बीमारी होने से पहले दिया जाता है। व्यक्ति के लक्षणों के आधार पर, रोगी और उसके परिवार के सदस्यों को ये दवाएं दी जा सकती हैं। अगर होम्योपैथिक दवाओं को संक्रमण होने से पहले दिया जाता है, तो ये लक्षणों को आरंभ होने से रोकने के लिए व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं। संक्रमण होने के बाद, लक्षणों के आधार पर व्यक्ति को एकोनाइट, बेलाडोना, पल्सेटिला और वैरियोलाइनम जैसी होम्योपैथिक दवाएं दी जा सकती हैं।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

चिकनपॉक्स होने पर रोगी के लक्षणों के आधार पर उसे निम्नलिखित होम्योपैथिक दवाएं दी जाती हैं:

  • एकोनिटम नेपेलस (Aconitum Napellus)
    सामान्य नाम: मौंक्सहुड (Monkshood)
    लक्षण: निम्नलिखित लक्षणों में इस दवा का उपयोग किया जाता है:
  • बेलाडोना (​Belladonna)
    सामान्य नाम: डेडली नाइटशेड (Deadly nightshade)
    लक्षण: नीचे दिए गए कुछ लक्षणों को अनुभव करने पर इस दवा से राहत मिलती है:
  • एंटीमोनियम क्रूडम (Antimonium Crudum)
    सामान्य नाम: ब्लैक सल्फाइड ऑफ़ एंटीमनी (Black sulphide of antimony)
    लक्षण: नीचे दिए गए लक्षणों में इस दवा को उपयोग किया जाता है:
    • पस या स्पष्ट तरल पदार्थ से भरे फोड़े-फुंसियां।
    • त्वचा का सूखापन और जलन। (और पढ़ें - रूखी त्वचा की देखभाल)
    • त्वचा पर जलन और पपड़ी बनकर पस निकलना।
    • खुजली, जो रात के समय बढ़ जाती है।
    • पेट की समस्याओं के साथ सूखे चकत्ते। (और पढ़ें - पेट फूल जाए तो क्या करें)
    • भूख न लगना
    • रात के समय, गर्मी से और पानी से लक्षण बढ़ जाना।
    • खुली हवा में लक्षण बेहतर होना।
    • व्यक्ति को देखने पर या छूने पर उसे अच्छा महसूस न होना।
       
  • मर्क्यूरियस सोलुबिलिस (Mercurius Solubilis)
    सामान्य नाम: क्विकसिलवर (Quicksilver)
    लक्षण: नीचे दिए गए कुछ लक्षणों को अनुभव करने पर ये दवा दी जाती है:
  • पल्सेटिला प्रेटेंसिस (Pulsatilla Pratensis)
    सामान्य नाम: विंडफ्लॉवर (Windflower)
    लक्षण: ये दवा उन मामलों में इस्तेमाल की जाती है, जब संक्रमण आसानी से ठीक नहीं होता। ये उन बच्चों को ज्यादा सूट करती है जिन्हें प्यार-दुलार की आदत होती है और वे चाहते हैं उनपर ध्यान दिया जाए। नीचे दिए गए लक्षण अनुभव होने पर इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है:
  • रस टोक्सिकॉडेंड्रन (Rhus Toxicodendron)
    सामान्य नाम: पाइजन आइवी (Poison ivy)
    लक्षण: ये दवा हर्पीस और अर्टिकेरिया जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए अच्छी है। निम्नलिखित समस्याओं में इस दवा का उपयोग किया जाता है:
    • त्वचा पर लाल, सूजे हुए फोड़े-फुंसी होना।
    • बहुत ज्यादा खुजली होना। (और पढ़ें - खाज के लक्षण)
    • त्वचा पर तरल पदार्थ से भरे फोड़े-फुंसी।
    • ग्रंथियों की सूजन।
    • पांव सूजना। (और पढ़ें - पैरों में सूजन के घरेलू उपाय)
    • फोड़े-फुंसी में जलन के साथ पपड़ी जमना।
    • बहुत प्यास लगना और ठंडा दूध पीने की इच्छा होना। (और पढ़ें - कच्चे दूध पीने के फायदे)
    • बहुत ज्यादा थकान होने के कारण व्यक्ति का बेचैनी के साथ इधर-उधर घूमना।
    • मांसपेशियों और जोड़ों में तेज दर्द। (और पढ़ें - जोड़ों में दर्द के उपाय)
    • सब खाने की चीजें कड़वी लगना।
    • रात को ठंड के कारण लक्षण बढ़ जाना।
    • गर्म और रूखे मौसम में लक्षण बेहतर हो जाना।
       
  • सल्फर (Sulphur)
    सामान्य नाम: सब्लिमेटिड सल्फर (Sublimated sulphur)
    लक्षण: ये दवा उन लोगों को सूट करती है जिन्हें पानी पसंद नहीं होता और खड़े रहने में असुविधाजनक महसूस करते हैं। ये दवा उन लोगों में ज्यादा असरदार तरीके से काम करती है जो सही से खाने के बाद भी पतले हैं। निम्नलिखित लक्षणों को इस दवा से ठीक किया जा सकता है:
  • वैरियोलाइनम (Variolinum)
    सामान्य नाम: लिम्फ फ्रॉम ए स्मॉलपॉक्स पुसचयूल (Lymph from a smallpox pustule)
    लक्षण: चिकनपॉक्स के अलावा, ये दवा हर्पीस जोस्टर संक्रमण के लिए भी अच्छी है। निम्नलिखित लक्षण अनुभव करने पर इस दवा का उपयोग किया जाता है:
  • एपिस मेलिफिका (Apis Mellifica)
    सामान्य नाम: हनी बी (Honey bee)
    लक्षण: ये दवा उन लोगों के लिए अच्छी है जो उलझन में रहते हैं और चीज़ें इधर-उधर
    गिराते रहते हैं। निम्नलिखित मामलों में ये दवा असरदार है:

होम्योपैथिक दवाओं के साथ आपको खान-पान और जीवनशैली के कुछ बदलाव करना जरुरी होता है ताकि दवाओं के कार्य पर कोई बुरा प्रभाव न हो। इनके बारे में नीचे बताया गया है:

क्या करें:

  • बीमार व्यक्ति की जरूरतों का ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण होता है। अगर उन्हें कुछ खाने या पीने की इच्छा हो रही है, तो उन्हें वे चीज लाकर दें। ऐसा करने से उन्हें कुछ देर के लिए आराम मिलेगा और वे बेहतर महसूस करेंगे। (और पढ़ें - चिकन पॉक्स में क्या खाएं)
  • कमरे का तापमान और उनके कपड़ों को रोगी की सुविधा के अनुसार रखें ताकि उन्हें कोई दिक्कत न हो।
  • पर्याप्त आराम करें ताकि आप जल्दी ठीक हो पाएं।
  • व्यक्ति की हालत में सुधार लाने के लिए, उसे स्वस्थ और पौष्टिक आहार देना जरुरी है। (और पढ़ें - संतुलित आहार चार्ट)

क्या न करें:

  • होम्योपैथिक दवाओं को ऐसी जगह न रखें जहां अन्य तेज सुगंध या प्रभाव वाली वस्तुएं हैं, जैसे परफ्यूम या धूप क्योंकि ये दवा के कार्य पर दुष्प्रभाव डाल सकते हैं।
  • रोगी को किसी भी प्रकार का मानसिक तनाव न दें और उन्हें आराम करने दें। (और पढ़ें - तनाव दूर करने के उपाय)
  • व्यक्ति को अस्वस्थ आहार या चीजें न दें जो उनकी समस्या बढ़ा सकती हैं।

(और पढ़ें - एंटीऑक्सीडेंट युक्त आहार)

आज तक होम्योपैथी और होम्योपैथिक दवाओं का कोई दुष्प्रभाव सामने नहीं आया है और न ही इससे जुड़े किसी जोखिम कारक का पता चला है। हालांकि, कोई भी दवा लेने से पहले किसी योग्य होम्योपैथिक डॉक्टर से सलाह लेनी बहुत आवश्यक है ताकि वे आपके लक्षणों को समझकर उचित दवा दे सकें।

(और पढ़ें - चिकन पॉक्स होने पर क्या करें)

चिकनपॉक्स आपकी क्षमता को कम कर देने वाली एक बीमारी है। इसके लिए दी जाने वाली चिकन पॉक्स वैक्सीन के दुष्प्रभाव हो सकते हैं। होम्योपैथिक दवाएं इन्फेक्शन के लक्षणों को ठीक करती हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाती हैं। अगर कई लोगों में सामान्य लक्षण देखे जा रहे हैं, तो होम्योपैथिक दवाओं को बीमारी से बचाव के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। व्यक्ति के लक्षणों के आधार पर दी गई उचित दवा लंबे समय तक फायदा दे सकती है।

(और पढ़ें - चिकन पॉक्स का घरेलू उपचार)

Dr. Monika Bhardwaj

Dr. Monika Bhardwaj

होमियोपैथ
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Shailvi Singh

Dr. Shailvi Singh

होमियोपैथ
4 वर्षों का अनुभव

Dr Mukesh Nigam

Dr Mukesh Nigam

होमियोपैथ
10 वर्षों का अनुभव

Dr Preeti Dimri

Dr Preeti Dimri

होमियोपैथ
10 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Cleveland Clinic. [Internet]. Cleveland, Ohio. Varicella.
  2. Department of Health[internet]. New York State Department; Chickenpox (varicella zoster infection).
  3. National Center for Homeopathy Chicken pox - Homeopathic treatment vs. immunization. Mount Laurel, New Jersey [Internet].
  4. Rajput H. Homeopathic Prophylaxis: Just Homeopathic Vaccination or More. J Homeopat Ayurv Med 1:e105. doi: 10.4172/2167-1206.1000e105, 2012.
  5. William Boericke. Homeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
  6. Wenda Brewster O’really. Organon of Medical Art. 1st edition 2010 , 3rd impression 2017.
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ