myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

चिकन पॉक्स एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलने वाला रोग है। यह वरिसेला ज़ोस्टर (varicella zoster) नामक वायरस के संक्रमण से होता है। यह रोग हवा के जरिए या लार, कफ और संक्रमित व्यक्ति के दानों से निकलने वाले तरल पदार्थ के संपर्क में आने से भी फैलता है। चिकन पॉक्स नवजात शिशुओं में होने वाला आम रोग है, लेकिन यह गर्भवती महिलाओं और कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों में भी अधिक तेज़ी से फैलता है। चिकन पॉक्स में व्यक्ति की देखरख करने के अलावा आप उनकी डाइट में बदलाव करके भी चिकन पॉक्स को जल्दी से ठीक कर सकते हैं।

इस लेख में चिकन पॉक्स में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं चाहिए के बारें में बताया गया है। अगर आप चिकन पॉक्स की बीमारी से छुटकारा पाना चाहते हैं तो इस लेख को जरूर पढ़ें।

(और पढ़ें - चिकन पॉक्स के लक्षण)

तो चलिए आपको बताते हैं चिकन पॉक्स में क्या खाये और क्या न खाएं –

  1. चिकन पॉक्स होने पर क्या खाना चाहिए - Chicken pox hone par kya khana chahiye
  2. चिकन पॉक्स में परहेज और क्या नहीं खाना चाहिए - Chicken pox me parhej aur kya nahi khana chahiye

चिकन पॉक्स रोग के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पिलायें - Chicken pox rog ke liye jyada se jyada pani piye

चिकन पॉक्स रोग के दोरान शरीर में पानी की कमी होना आम है। इस स्थिति में हाइड्रेटेड और स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है कि आप पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पियें। रोजाना पूरे दिन में सात से आठ ग्लास पानी जरूर पियें। पानी के अलावा आप सब्जियों और फलों का जूस और नारियल पानी पी सकते हैं। चिकन पॉक्स से पीड़ित व्यक्ति को सबसे पहले पानी उबालना चाहिए और फिर उसे ठंडा करके पीना चाहिए। इस तरह आप किसी भी बैक्टीरिया से दूर रहेंगे। आप हर्बल चाय भी पी सकते हैं जैसे कैमोमाइल, दालचीनी और तुलसी आदि से बनी चाय। इससे न सिर्फ आप हाइड्रेट रहेंगे बल्कि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार होगा। 

(और पढ़ें - पानी कब कितना और कैसे पीना चाहिए)

चिकन पॉक्स ठीक करने के लिए बी.आ.र.ए.टी. डाइट लें - Chicken pox theek karne ke liye brat diet le

चिकन पॉक्स के लिए बी.आ.र.ए.टी. डाइट (BRAT diet) बहुत आम है, यानी

  • बी (B) का अर्थ होता है केला (Banana),
  • आर (R) का अर्थ है चावल (Rice),
  • ए (A) का मतलब होता है सेब (Apple),
  • टी (T) का अर्थ होता है टोस्ट, यानि ब्रेड (Toast)

केले में कार्बोहाइड्रेट होता है और अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं। चिकन पॉक्स में आने वाले बुखार को ठीक करने के लिए आप एंटीबायोटिक या एंटीवायरल दवाइयां खाते हैं, जिसकी वजह से मुँह का स्वाद बिगड़ जाता है, ऐसे में केला व सेब आपके मुँह के स्वाद को ठीक करते हैं। चिकन पॉक्स के दौरान आपकी पाचन क्रिया सही से काम नहीं करती, ऐसे में चावल शरीर को ठंडा रखते हैं और ये आसानी से पच भी जाते हैं। अगर आप चिकन पॉक्स में साधारण टोस्ट खाते हैं, जिसमें मक्खन, जैम या घी न लगा हो तो यह भी आसानी से पच जाता है।

(और पढ़ें - चिकन पॉक्स का घरेलू उपचार)

चिकन पॉक्स में उबली सब्जियां खाएं - Chicken pox me ubli sabjiya khaye

उबली सब्जियां चिकन पॉक्स में खानी सबसे अच्छी होती हैं, क्योंकि इनमें किसी भी तरह का तेल नहीं मिला होता और यह उबली हुई होती हैं। उबली सब्जियां खाने के लिए आप इन सब्जियों का इस्तेमाल कर सकते हैं, जैसे पत्ता गोभी, फूल गोभी, गाजर, शकरकंद, आलू, बीन्स, ब्रोकली आदि। इन सब्जियों को उबालने के अलावा आप इन सब्जियों का रोजाना सूप बनाकर भी पी सकते हैं।

(और पढ़ें - उबली सब्जियाँ खाना क्यों है सेहत के लिए फायदेमंद)

चिकन पॉक्स बीमारी में ज्यादा से ज्यादा फल खाएं - Chicken pox bimari me jyada se jyada fal khaye

जब आपको चिकन पॉक्स हो तो फल लेने की मात्रा को बढ़ा दें। चिकन पॉक्स के दौरान आपका शरीर बीमारियों और वायरस से लड़ता है, ऐसे में जरूरी है कि आप शरीर को पर्याप्त मात्रा में सही पोषण दें। इस रोग में आपको ऐसे फलों का चयन करना चाहिए जो खाने में एकदम मुलायम हो जैसे अंगूर, केला, सेब, खरबूजा, तरबूज आदि। चिकन पॉक्स रोग में आपको मुँह में छाले भी हो जाते हैं, जिसकी वजह से अनार या संतरे जैसे फलों को खा पाना मुश्किल होता है। अगर आपको ऐसी कोई परेशानी है तो आप फलों का जूस या शेक बनाकर भी सकते हैं।

(और पढ़ें - फल खाने का सही समय)

चिकन पॉक्स ठीक करने के लिए रागी का इस्तेमाल करें - Chicken pox theek karne ke liye ragi ka istemal kare

रागी कैल्शियमफाइबर से समृद्ध होती है। आप रागी को बिना तेल की मदद के डोसा, रागी माल्ट, रागी से बना दलिया, रागी इडली के लिए उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा एमिनो एसिड से समृद्ध खाद्य पदार्थ से भी चिकन पॉक्स रोग सही होता है जैसे डेयरी उत्पाद (चीज और दूध), घर का बना दूध आदि।  

(और पढ़ें - त्वचा पर लाल चकत्ते का इलाज)

नारियल पानी पीने से चिकन पॉक्स होता है ठीक - Nariyal pani peene se chicken pox hota hai theek

चिकन पॉक्स रोग में रोजाना आपको सुबह-सुबह नारियल पानी जरूर पीना चाहिए। नारियल पानी विटामिनखनिज पदार्थ से समृद्ध होता है और इसमें कैलोरी न के बराबर होती है। नारियल पानी पीने से आप ठंडक महसूस करते है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। पूरे दिन में नारियल पानी को कई बार पीएं इससे आपको एसिडिटी की समस्या भी नहीं होगी।

(और पढ़ें - त्वचा पर चकत्तों के घरेलू उपाय)

 

दही खाना होता है चिकन पॉक्स में फायदेमंद - Dahi khana hota hai chicken pox me acha

पूरे दिन में पर्याप्त मात्रा में दही खाएं। दही में न सिर्फ कैल्शियम और प्रोबायोटिक्स होते हैं बल्कि दही खाने से आपकी त्वचा स्वस्थ रहती है। आप पूरे दिन में कई बार छाछ भी पी सकते हैं, इससे आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। दही खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी सुधरती है। चिकन पॉक्स के दौरान दही खाने से आप ठंडा महसूस करते हैं और किसी भी बीमारी का इलाज तेजी से होता है।

(और पढ़ें - खसरा के लक्षण)

चिकन पॉक्स में पर्याप्त मात्रा में पोषण लें - Chicken pox me paryapt matra me poshan le

चिकन पॉक्स के दौरान आपके शरीर के लिए विटामिन ए से समृद्ध खाद्य पदार्थ बहुत अच्छे होते हैं। विटामिन ए से चिकन पॉक्स से त्वचा पर पड़ रहे दाग-धब्बों का इलाज होता है। आपके शरीर को जिंक की अधिक मात्रा में आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन इसकी जरूरत तब होती है जब आप चिकन पॉक्स से पीड़ित होते हैं, क्योंकि यह मरीज की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और भूख न लगने की समस्या में सुधार करता है। मकई, बीन्स, ब्राउन मशरूम का सूप, कद्दू के भुने हुए बीज, शतावरी ज़िंक से समृद्ध होते हैं और इन्हें चिकन पॉक्स के मरीज को अपनी डाइट में जरूर शामिल करने चाहिए।

जब चिकन पॉक्स होते हैं तो आपको बेचैनी होने लगती है और नींद भी अच्छे से नहीं आती। इस समस्या से निकलने के लिए आपको कैल्शियम और मैग्नीशियम युक्त आहार खाने चाहिए। बीन्स, सोया मिल्क, साबुत अनाज, ब्राउन ब्रेड कैल्शियम और मैग्नीशियम से समृद्ध होते हैं। इसके अलावा दोपहर के खाने या रात के खाने में आप एक कप दाल खा सकते हैं। दाल प्रोटीन से भरपूर होती हैं जो कि आपके शरीर के लिए बेहद जरूरी हैं। 

(और पढ़ें - चेचक के लक्षण)

चिकन पॉक्स में खाये जाने वाले अन्य आहार - Chicken pox me khaye jane wale any aahar

ऊपर बताये गए आहारों के अलावा आप इन आहारों को भी चिकन पॉक्स के दौरान खा सकते हैं जैसे सूजी, सूजी से बना उपमा जिसमें टमाटर, गाजर व शिमला मिर्च हो। साथ ही आप फलों के जूस भी पी सकते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि आपको बंद डब्बे वाले जूस नहीं पीने, क्योंकि चिकन पॉक्स में सिर्फ ताजा फल और सब्जियों का जूस ही अच्छा होता है। अन्य खाद्य पदार्थ जिन्हें आप चिकन पॉक्स में खा सकते हैं जैसे पिस्ता, नट्स, टोफू, अखरोट, अंडे, अदरक, लहसुन, चुकंदर और ब्लूबेरी आदि। ऐसे फल और सब्जियां खाएं, जिनमें पानी की मात्रा सबसे अधिक हो जैसे खीरा, टमाटर, पालक, तरबूज, किवी, अंकुरित अनाज आदि।

(और पढ़ें - मुंह के छाले दूर करने के घरेलू उपाय)

 

चिकन पॉक्स में परहेज इस तरह करें - 

1. खट्टे फल​ फल न खाएं –

जब आपको चिकन पॉक्स होते हैं तो मुँह और गले में छाले होना आम है, लेकिन जरूरी नहीं है कि यह समस्या सभी को हो। तो ऐसे में खट्टे फल या खट्टे फल के जूस न पियें, क्योंकि इन फलों में मौजूद अधिक मात्रा में एसिड आपके छालों में होने वाली जलन को बढ़ा सकता है। साथ ही इससे चिकन पॉक्स का इलाज अच्छे से नहीं होगा और दर्द भी अधिक बढ़ता चला जाएगा।

(और पढ़ें - मुंह में छाले होने पर क्या करना चाहिए)

2. सेचुरेटेड फैट न खाएं –

मीट और अन्य खाद्य पदार्थ जो सेचुरेटेड फैट से समृद्ध होते हैं जैसे वसा युक्त डेयरी प्रोडक्ट को चिकन पॉक्स के दौरान नहीं लेना चाहिए। यह खाद्य पदार्थ सेचुरेटेड फैट से समृद्ध होते हैं जिससे सूजन बढ़ सकती है और इलाज में देरी आ सकती है। अगर आपको चिकन पॉक्स के दौरान ठंडे उत्पाद (frozen products - लम्बे समय तक उत्पाद को ठंडा रखने के लिए) खाना पसंद है जैसे आइस क्रीम और मिल्कशेक, तो कम वसा वाला दही या कम वसा वाली आइस क्रीम खा सकते हैं।

(और पढ़ें - फफोले के लक्षण)

3. मसालेदार खाना न खाएं –

मसालेदार और अधिक नमक वाले खाद्य पदार्थों से आपके मुँह में जलन पैदा हो सकती है और जब आपको चिकन पॉक्स हो तब ऐसे खाद्य पदार्थों को बिल्कुल भी न खाएं। मसालेदार खाने जैसे चिकन, मीट, मछली, चायनीज भोजन या किसी भी तरह का सूप जिनमें मिर्च सबसे अधिक इस्तेमाल होती है। अगर आप गर्म-गर्म भोजन खाना पसंद करते हैं तो कोशिश करें कि आपके खाने में मसाले और नमक की मात्रा कम हो। ऐसे आपके मुँह और गले के छालों में जलन या दर्द की समस्या नहीं होगी।

(और पढ़ें - खुजली के लक्षण)

4. ऑर्गनाइन से समृद्ध आहार न खाये –

अर्जीनाइन एक प्रकार का एमिनो एसिड होता है, जिससे वायरस का गुणन बढ़ने लगता है। इस गुणन के कारण चिकन पॉक्स को सही होने में सामान्य से ज्यादा समय लगता है, इसलिए ऐसे खाद्य पदार्थ न खाएं जिनमें अर्जीनाइन की मात्रा सबसे अधिक होती है जैसे चॉकलेट, मूंगफली, ट्री नट्स, बीज, पीनट बटर, किशमिश आदि।

5. ट्रांस फैट न खाएं –

कई प्रोसेस्ड फूड में ट्रांस फैट होता है, एक ऐसा फैट जिसे पचाने में दिक्कत होती है और इसके कारण ह्रदय से संबंधित बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है। साथ ही, ट्रांस फैट लेने से त्वचा की सूजन बढ़ती है और इसकी वजह से चिकन पॉक्स पर प्रभाव पड़ सकता है। इस बात का ध्यान रखें कि कोई भी उत्पाद जब आप खरीद रहे हो तो सामग्री को ध्यान से पढ़ें और देखें कि उसमें ट्रांस फैट है या नहीं।

(और पढ़ें - चिकन पॉक्स होने पर क्या करें)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें