myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

त्वचा पर स्ट्रेच मार्क्स और निशान दिखने की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। लेकिन यह परेशानी सबसे अधिक प्रेग्नेंसी के बाद देखी जाती है। इन निशानों की वजह से आपकी त्वचा बदसूरत लगने लगती है और इस वजह से आप अपने मनपसंद के कपड़े भी नहीं पहन पाते। प्रेग्नेंसी स्ट्रेच मार्क्स पेट, कूल्हों, जांघों, हाथ आदि पर दिखाई देते हैं। इनसे छुटकारा पाने के लिए इस लेख में हम आपको बायो आयल के बारे में बता रहे हैं। इस आयल को अगर आप प्रभावित क्षेत्र पर दो से तीन महीने तक लगातर लगाते हैं, तो यकीन मानिये आपको उस जगह पर किसी छोटे से भी निशान की झलक नहीं दिखेगी।

(और पढ़ें - स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय)

तो आइये आपको इस लेख में बायो आयल क्या है, उपयोग, फायदे और नुकसान के बारे में बताते हैं -

  1. बायो आयल क्या होता है - Bio oil kya hota hai
  2. बायो आयल कैसे यूज़ करे - Bio oil kaise use kare
  3. बायो आयल के फायदे - Bio oil ke fayde
  4. बायो आयल के नुकसान - Bio oil ke nuksan

बायो आयल त्वचा के स्ट्रेच मार्क्स को कम करने का बहुत ही बेहतरीन तरीका है। बायो आयल प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स, निशान, चेहरे की झुर्रियों व एंटी एजिंग त्वचा और डिहाइड्रेटेड स्किन को कम करने में मदद करता है। बायो आयल विटामिन ए से समृद्ध होता है जो कि चेहरे के लिए काफी अच्छा है। बायो आयल को ड्राई आयल भी कहा जाता है, जिसका मतलब है कि यह त्वचा में आसानी से अवशोषित हो जाता है।

(और पढ़ें - स्ट्रेच मार्क्स हटाने की क्रीम)

बायो आयल का इस्तेमाल इस प्रकार करें –

पहला चरण -

बायो आयल को स्ट्रेच मार्क्स या निशान पर पूरे दिन में दो बार तीन महीने तक लगायें। कभी भी बायो आयल को कटी हुई त्वचा या चोट लगी त्वचा पर न लगायें। तेल को त्वचा पर लगाने के बाद उंगलियों से अच्छे से मसाज करें। जो नए निशान होते हैं वो बायो आयल से जल्दी ठीक हो जाते हैं।

दूसरा चरण -

प्रेगनेंसी स्ट्रेच मार्क्स से बचने के लिए बायो आयल को ब्रेस्ट, पेट का निचला क्षेत्र, जांघ और कूल्हों पर गर्भावस्था की पहली तिमाही में पूरे दिन में दो बार लगायें।

तीसरा चरण -

आप त्वचा पर बायो आयल को मॉइस्चराइजिंग लोशन की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं। कम से कम तीन महीने के लिए चेहरे पर बायो आयल को क्लींजिंग के बाद पूरे दिन में दो बार लगाएं। धूप से बचने के लिए आप बायो आयल के बाद त्वचा पर सनस्क्रीन भी लगा सकते हैं।

(और पढ़ें - नॉर्मल डिलीवरी के लिए क्या खाएं)

बायो आयल निशान को हटाने के लिए - Bio oil nishan ko hatane ke liye

कभी भी बायो आयल को खुली चोट पर ये सोचकर न लगाएं कि इससे उस क्षेत्र पर चोट का निशान नहीं पड़ेगा। इससे घाव का संक्रमण और अधिक फैल सकता है। बायो आयल कंपनी का दावा है कि इससे पूरी तरह से निशान तो नहीं जाते, लेकिन निशान के आकार में थोड़ी कमी आ जाती है। कुछ महीने तक रोजाना इसका इस्तेमाल करने से जलन के निशान, चिकन पॉक्स या मुहांसों के निशान कम हो जाते हैं।

(और पढ़ें - मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय)

 

बायो आयल फॉर प्रेगनेंसी स्ट्रेच मार्क्स - Bio oil for pregnancy stretch marks in hindi

ज्यादातर महिलाओं ने प्रेग्नेंसी के बाद बायो आयल बहुत ही प्रभावी पाया है। बायो आयल डिलीवरी के बाद कुछ महीने तक लगाते रहने से स्ट्रेच मार्क्स का असर कम हो जाता है। इसके अलावा आप इस तेल को गर्भावस्था की दूसरी तिमाही से भी लगाना शुरू कर सकते हैं, जैसे ब्रेस्ट, पेट का निचला क्षेत्र, कमर, कूल्हों, जाँघों आदि। इस तेल का असर त्वचा के प्रकार पर भी निर्भर करता है। अगर आपको इसका कोई भी सकारात्मक परिणाम तीन महीने के अंदर न दिखे तो अपने डर्मेटोलॉजिस्ट (dermatologist) से बात करें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं)

बायो आयल फॉर फेस - Bio oil for face

बायो आयल चेहरे के डार्क स्पॉट्स यानि काले दाग-धब्बों को भी कम करने में मदद करता है। दाग-धब्बे, कील-मुहांसों या फिर चिकनपॉक्स की वजह से पड़ते हैं। अगर आप हफ्ते में तीन बार बायो आयल को लगाते हैं तो आपको दाग धब्बों से छुटकारा मिलेगा और त्वचा सुंदर लगने लगेगी।   

(और पढ़ें - चेहरे के दाग धब्बे हटाने के घरेलू उपाय)

बायो आयल का उपयोग एंटी एजिंग के लिए - Bio oil ka upyog anti aging skin ke liye

बायो आयल आपकी त्वचा से कोलाजेन और त्वचा की लोच में सुधार करके झुर्रियों को कम करने में मदद करता है। बायो आयल में कई फायदे मौजूद होते हैं जो एंटी एजिंग की समस्या का इलाज करते हैं। इस तेल को लगाने से आपकी त्वचा हमेशा स्वस्थ बनी रहेगी।

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए फेस पैक)

बायो ऑइल का फायदा ड्राई स्किन के लिए - Bio oil ka fayda dry skin ke liye

बायो आयल में मौजूद आवश्यक तेल (जैसे लैवेंडर का तेल, कैमोमाइल और गेंदे के फूल का तेल) त्वचा पर बहुत अच्छे से कार्य करते हैं। इससे रूखी त्वचा कोमल और मुलायम लगने लगती है। इस तेल को रूखी त्वचा पर लगाने से आपकी त्वचा स्वस्थ होती चली जाती है।

(और पढ़ें - मुलायम त्वचा के उपाय)

बायो आयल फॉर हेयर - Bio oil for hair in hindi

आयल आमतौर पर आपके बालों को तैलीय कर सकता है, लेकिन अगर आप इसका इस्तेमाल ज्यादा न करके किफायती तरीके से करते हैं तो आपके बाल तैलीय नहीं होंगे। इसे आप रात भर बालों की जड़ों पर लगाकर रखें, इससे सिर की पपड़ी वाली त्वचा भी ठीक होती है। पर सुबह में बालों को अच्छे से शैम्पू से धो लें। 

(और पढ़ें - हेयर ग्रोथ टिप्स)

 

आपने ऊपर बायो आयल के कई फायदे देखे। हालांकि इसके इस्तेमाल से यह भी पता चला है कि सभी को इस तेल के सकारात्मक परिणाम नहीं मिलते। यह इसलिए क्योंकि बायो आयल से कई गंभीर नुकसान भी हो सकते हैं, खासकर अगर बायो आयल का ब्रांड आपकी त्वचा के मुताबिक सही नहीं है तो। बायो आयल के इस्तेमाल से कुछ साइड इफेक्ट्स जैसे त्वचा में जलन, डायरिया और उल्टी। अगर आप इसे चेहरे पर लगाते हैं तो इससे आपके चेहरे के कील-मुहांसे बढ़ सकते हैं, मतली, त्वचा पर सूजन, लालिमा जैसी समस्या शुरू हो सकती है। तो हमारी आपको यही सलाह है कि एक अच्छा बायो आयल ब्रांड पता करने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें, जिससे आपको आगे जाकर किसी भी तरह के नुकसान न देखने पड़ें।   

(और पढ़ें - गर्भावस्था में बालों का झड़ना)

 

और पढ़ें ...