myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

इंट्रा यूटेराइन इनसेमिनेशन (आई यू आई या आईयूआई) कृत्रिम इनसेमिनेशन का एक प्रकार है जो बांझपन का इलाज करने की प्रक्रिया है। आई यू आई प्रक्रिया के अंतर्गत शुक्राणु पुरुष के वीर्य से अलग करके लैब में साफ किये जाते है और फिर एक पतली लचीली प्लास्टिक की कैथेटर (नली) का उपयोग कर महिला के गर्भाशय में रखे जाते है।

(और पढ़े - शुक्राणु बढ़ाने के घरेलू उपाय)

यह प्रक्रिया अक्सर ओव्यूलेशन को बढ़ाने वाली दवा (इन दवाओं का उपयोग कई परिस्थितियों में किया जाता है और सामान्य रूप से, ये महिलाओं को एक से अधिक और आम तौर पर बेहतर गुणवत्ता वाले अंडे का उत्सर्जन करने में मदद करती हैं) के संयोजन के साथ प्रयोग की जाती है।

आई.यू.आई. प्रक्रिया पुरुष बांझपन, अस्पष्ट बांझपन या सर्वाइकल म्यूकस की समस्याओं से परेशान लोगों को लाभ पहुंचा सकती है। यह प्रक्रिया अकेली महिलाओं और समलैंगिक जोड़ों को भी दान किये गए स्पर्म की मदद से गर्भवती होने में मदद कर सकती है।

(और पढ़े - स्पर्म डोनेशन क्या है)

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि आई यू आई क्या है, कैसे किया जाता है और आई यू आई का खर्च कितना लगता है, साथ ही इस लेख में यह भी बताया गया है कि आई यू आई के क्या फायदे और नुकसान हो सकते हैं, आई यू आई के बाद क्या सावधानी रखें और इसकी सफलता दर क्या है।

(और पढ़े - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय)

  1. आई यू आई क्या है - IUI kya hai in hindi
  2. आई यू आई कैसे किया जाता है - IUI kaise hota hai in hindi
  3. आई यू आई के बाद सावधानी - IUI ke baad savdhani in hindi
  4. आई यू आई के फायदे - IUI ke fayde in hindi
  5. आई यू आई के नुकसान - IUI ke side effect in hindi
  6. आई यू आई का खर्च - IUI ka kharcha in hindi
  7. आई यू आई की सफलता दर - IUI treatment success rate in hindi

आई यू आई का मतलब इंट्रा यूटेराइन इनसेमिनेशन (अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान/वीर्यसेचन) है। इसे कभी-कभी डोनर इनसेमिनेशन, अल्टरनेटिव इनसेमिनेशन (वैकल्पिक वीर्यसेचन) या अर्टिफिशियल इनसेमिनेशन (कृत्रिम वीर्यसेचन) भी कहा जाता है।

आई यू आई प्रजनन उपचार का एक प्रकार है। यह आमतौर पर उन लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है जो दान किए गए शुक्राणु का उपयोग उपचार में कर रहे होते हैं इनमें अकेली महिला सहित महिला जोड़े शामिल हैं। किंतु कुछ विषमलैंगिक जोड़ों द्वारा भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

(और पढ़े - शुक्राणु बढ़ाने वाला आहार)

यह एक साधारण प्रक्रिया है जिसमें सीधे आपके गर्भाशय के अंदर शुक्राणु डाले जाते हैं, जो स्वस्थ शुक्राणु को आपके अंडे के करीब पहुंचने में मदद करती है। यह शुक्राणु के अंडे तक पहुँचाने वाले समय और दूरी को कम करती है, जिससे अंडा आसानी से उर्वरक हो सकता है।

आई वी एफ और आई यू आई उपचार के बीच एक अंतर है। आई यू आई प्रक्रिया शरीर को आई वी एफ की तुलना में अधिक काम करने का मौका देती है, इसलिए यह उपचार का अधिक प्राकृतिक किंतु कम सफल रूप है।

(और पढ़ें - टेस्ट ट्यूब बेबी)

आई यू आई में, उच्चतम गुणवत्ता वाले शुक्राणु का चयन किया जाता है और उन्हें प्राकृतिक रूप से अंडे को उर्वरित (फर्टिलाइज) करने के लिए गर्भाशय में छोड़ दिया जाता है। आई वी एफ में अंडे को शरीर से हटाया जाता है और वो प्रयोगशाला में उर्वरित होता है। इसका मतलब है कि आई यू आई एक कम आक्रामक प्रक्रिया है जिसमें आई वी एफ की तुलना में कम दवाएं लेनी पड़ती है।

यह आई वी एफ की तुलना में काफी सस्ता है - आई यू आई के एक चक्र की कीमत आम तौर पर एक आई वी एफ चक्र की कीमत की एक चौथाई हिस्सा होती है।

हालांकि, आई यू आई में एक बार जब आप शुक्राणु को गर्भाशय में रख देते हैं तो आप शरीर की प्राकृतिक प्रक्रियाओं को नियंत्रण सौंप रहे होते हैं जबकि आई वी एफ में आपके पास अधिक नियंत्रण होता है - आप अंडे को जाँच सकते हैं कि निषेचित हुआ या नहीं और गर्भ में वापस रखने के लिए सबसे अच्छे भ्रूण का चयन कर सकते हैं। आई यू आई की सफलता दर आई वी एफ की तुलना में आमतौर पर एक तिहाई के आसपास होती है।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंट न हो पाने के कारण)

यह सुनिचित करने के लिए की जब आप आई यू आई उपचार ले तब अंडे उत्सर्जित हो रहे हैं आपके डॉक्टर ओव्यूलेशन किट, अल्ट्रासाउंड या रक्त परीक्षण का उपयोग कर सकते हैं।

यदि आपका मासिक धर्म चक्र नियमित है तो आमतौर पर ओव्यूलेशन 12 से 16 दिनों के बीच होता है। यदि आपको अनियमित मासिक धर्म चक्र की परेशानी है तो यह भिन्न हो सकता है।

कभी-कभी, आई यू आई से पहले ओव्यूलेशन बढ़ाने के लिए प्रजनन दवाओं का उपयोग किया जाता है। इस मामले में, योनि के अल्ट्रासाउंड स्कैन का उपयोग आपके अंडों के विकास की निगरानी करने के लिए किया जाता है। जैसे ही अंडे परिपक्व होते हैं, आपको इसके स्राव को उत्तेजित करने के लिए हार्मोन इंजेक्शन दिया जाता है।

(और पढ़े - हार्मोन चिकित्सा क्या है)

डॉक्टर आपके पुरुष साथी को यह सुझाव दे सकते हैं कि वह इस प्रक्रिया से 2 से 5 दिन पहले सेक्स न करें। इससे शुक्राणुओं की अधिक संख्या सुनिश्चित करने में मदद मिलती है।

फिर, आपके साथी को एक कप में हस्तमैथुन करके क्लिनिक में वीर्य का नमूना देने की आवश्यकता होगी। इसकी जरुरत आमतौर पर उसी दिन होती है जब आई यू आई उपचार किया जाता है।

आई यू आई के लिए स्पर्म बैंक से जमे हुए शुक्राणु का भी उपयोग किया जा सकता है, भले ही आप अकेली महिला हों, जोड़ा हो या समलैंगिक हो।

आपके लिए दान किए गए शुक्राणु का उपयोग करना एक कठिन निर्णय हो सकता है, खासतौर पर यदि आप शादीशुदा जोड़ा हैं तो इसलिए आगे बढ़ने से पहले आपको एक मनोचिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

(और पढ़े - मनोचिकित्सा क्या है)

आपके साथी से शुक्राणु लेने के बाद उन्हें तत्काल एक प्रयोगशाला में ले जाया जाता है, जहां उन्हें साफ किया जाता है। आपको एक टेबल पर सुलाया जायेगा और आपके डॉक्टर योनि के मुँह को धीरे-धीरे खोलने और आपकी गर्भाशय ग्रीवा को देखने के लिए एक स्पेक्युलम (पैप स्मीयर में इस्तेमाल किया जाने वाला टूल) का उपयोग करेंगे।

साफ शुक्राणु को एक लंबी और बहुत पतली नली का उपयोग करके गर्भाशय में रखा जाएगा। आपको इस प्रक्रिया के बाद 10 से 30 मिनट के लिए टेबल पर बैठे रहना होगा।

अधिकांश महिलाओं को इस प्रक्रिया के दौरान कोई असुविधा महसूस नहीं होती है, हालांकि कुछ महिलाओं को प्रक्रिया के बाद गर्भाशय में हल्की क्रैम्पिंग (दर्द) या योनि में रक्तस्राव का अनुभव हो सकता है।

एक बार प्रक्रिया समाप्त हो जाने के बाद, आप कपड़े पहन कर अपनी सामान्य दैनिक गतिविधियों को कर सकते हैं। प्रक्रिया के बाद आप एक या दो दिन के लिए योनि के पास हल्के दाग (स्पॉटिंग) का अनुभव कर सकते हैं।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंट होने के लक्षण)

चूंकि यह अपेक्षाकृत सरल और सुरक्षित प्रक्रिया है, इसलिए इसमें किसी भी विशेष सावधानी की आवश्यकता नहीं पड़ती है। प्रक्रिया के बाद कुछ मिनट आराम करें और फिर आप अपनी दिनचर्या के हिसाब से काम शुरू कर सकती हैं।

घर पर गर्भावस्था का परीक्षण करने से पहले प्रक्रिया के बाद दो सप्ताह प्रतीक्षा करें। बहुत जल्द परीक्षण करने से सही परिणाम पता नहीं चलते हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए)

अगर गर्भावस्था के हार्मोन अभी तक मापने योग्य स्तर पर नहीं हैं, तो जाँच का परिणाम नकारात्मक आ सकता है लेकिन हो सकता है कि आप वास्तव में गर्भवती हो।

यदि आप एचसीजी जैसी ओव्यूलेशन-प्रेरक दवा का उपयोग कर रही हैं तो दवा का जो अंश अभी भी आपके शरीर में बचा हुआ है वो आपको गर्भावस्था का संकेत दे सकता है जबकी हो सकता है कि आप वास्तव में गर्भवती न हो।

(और पढ़ें - prega news in hindi)

आपके डॉक्टर घर पर गर्भावस्था की जाँच के दो सप्ताह बाद आपको रक्त परिक्षण के लिए आने का निर्देश दे सकते हैं, क्योंकि रक्त परिक्षण निषेचन के बाद गर्भावस्था के हार्मोन का पता लगाने का अधिक बेहतर तरीका है।

यदि आप गर्भवती नहीं हो पाती हैं, तो आप अन्य प्रजनन उपचार से पहले आई यू आई को ही फिर से उपयोग करके देखें। अक्सर, गर्भावस्था की संभावनाओं को अधिकतम करने के लिए, एक ही इलाज का उपयोग तीन से छह महीने तक किया जाता है। 

(और पढ़ें - प्रेग्नेंट होने का तरीका)

आई यू आई उपचार के निम्नलिखित लाभ हैं -

  • आई यू आई अपेक्षाकृत कम जोखिम वाला उपचार है जो गर्भ धारण करने की कोशिश कर रही कई महिलाओं या जोड़ों के लिए एक शानदार विकल्प हो सकता है। (और पढ़े - गर्भधारण का सही समय)
  • प्राकृतिक रूप से गर्भ धारण के दौरान, शुक्राणु को योनि से गर्भाशय ग्रीवा में होते हुए गर्भाशय में फैलोपियन ट्यूब तक यात्रा करना पड़ती है। वहीं आई यू आई में , शुक्राणु सीधे गर्भाशय में रखे जाते हैं, जिससे वे सीधे अंडे के करीब पहुँच जाते हैं।
  • आई यू आई एक छोटा और अपेक्षाकृत दर्द रहित उपचार है।
  • यदि आपको  "अनरिसेप्टिव सर्वाइकल म्यूकस" नामक रोग है तो यह विधि आपके लिए उपयोगी हो सकती है क्योंकि आई यू आई में शुक्राणु सर्वाइकल म्यूकस के पार सीधा गर्भाशय में रखा जाता है।

(और पढ़े - गर्भावस्था में देखभाल के टिप्स)

 

कुछ महिलाओं में मासिक धर्म के दर्द के समान हल्की ऐंठन हो सकती है इसके अलावा आई यू आई से जुड़े जोखिम बहुत कम होते हैं।

यदि ओव्यूलेशन को उत्तेजित करने के लिए प्रजनन दवा दी जाती है, तो कभी-कभी कुछ महिलाओं में इन दवाओं के कारण अत्यधिक प्रतिक्रिया हो सकती है और अधिक अंडे पैदा हो सकते हैं, जिससे उस महिला के गर्भ में एक साथ कई अंडे निषेचित होने का जोखिम होता है जिसे ओवेरियन हाइपर स्टिमुलेशन सिंड्रोम (OHSS) कहा जाता है।

आई यू आई प्रक्रिया के बाद संक्रमण का मामूली जोखिम हो सकता है। हालाँकि आपके डॉक्टर स्टेराइल उपकरणों का उपयोग करते हैं, इसलिए संक्रमण होने की आशंका बहुत दुर्लभ है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के हफ्ते)

आई यू आई उपचार की लागत आपके निवास स्थान यानि आप किस शहर में इलाज करवाते हैं और इलाज के लिए आपकी विशिष्ट जरूरत के आधार पर भिन्न हो सकती है।

भारत में आई यू आई की लागत बहुत कम है क्योंकि आई यू आई के एक चक्र की लागत 3,000 रुपये तक हो सकती है। हालांकि, अगर आपको केवल एक चक्र की आवश्यकता है, तो आप कुल 5,000 से 10,000 रुपये के बीच खर्च होने की उम्मीद कर सकते हैं क्योंकि आई यू आई उपचार प्रक्रिया शुरू करने से पहले आपको अल्ट्रासाउंड और अन्य परीक्षण करवाने की आवश्यकता होगी।

(और पढ़े - गर्भधारण कैसे होता है)

अगर आई वी एफ उपचार के कुल खर्च जो 3 से 5 लाख के बीच होता है, को देखा जाए तो यह आसानी से समझा जा सकता है की क्यों आई यू आई एक लोकप्रिय विकल्प बना हुआ है।

आई यू आई के लिए क्लिनिक चुनने से पहले अलग-अलग क्लिनिक की लागत की तुलना कर लेनी चाहिए। कीमतें एक क्लिनिक से दूसरे में काफी भिन्न हो सकती हैं। यह भी सुनिश्चित करें कि लगत के अनुमान में हार्मोन और किसी भी अन्य दवा की लागत भी शामिल है, साथ ही शुक्राणु साफ करने का शुल्क भी शामिल है।

यदि आप स्पर्म बैंक से शुक्राणु का उपयोग कर रहे हैं, तो याद रखें कि आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली प्रत्येक खुराक के लिए अतिरिक्त शुल्क देना होगा। यदि आपने बिमा करवा रखा है तो क्लिनिक पर पहले से पता कर लें कि कौन सी लागत आपके बीमा द्वारा कवर की जा सकती है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था का पहला महीना)

यह प्रक्रिया हर किसी के लिए उपयोगी नहीं है। कुछ महिलाएं गर्भवती होने से पहले कई बार इसका उपयोग करती हैं तब जा कर उन्हें सफलता मिलती है और कई लोगों को तो कोई सफलता नहीं मिलती। प्रत्येक जोड़े की आई यू आई के लिए अलग प्रतिक्रिया होगी और इसकी सफलता का पूर्वानुमान करना मुश्किल होता है।

निम्न कारक इसके परिणाम को प्रभावित करते हैं -

  • आपकी आयु क्या हैं।
  • बांझपन का प्रकार कौनसा है। (और पढ़े - बाँझपन के घरेलू उपाय)
  • क्या प्रजनन दवाओं का उपयोग किया गया है।
  • प्रजनन से संबंधी अन्य चिंताए कौनसी हैं।

आई यू आई की सफलता दर 40 साल से अधिक उम्र की महिलाओं और  उन महिलाओं में में कम होती है, जो आई यू आई के तीन चक्रों के बाद भी गर्भवती नहीं हुई हैं।

(और पढ़ें - एग फ्रीजिंग के फायदे)

किसी भी प्रजनन उपचार में, युवा महिला के गर्भवती होने की संभावना अधिक होती है। यदि आपके प्राकृतिक चक्र को उत्तेजित करने के लिए प्रजनन दवाएं दी गयी हैं तो आपके गर्भवती होने की अधिक संभावना है।

यह देखने के लिए कि क्या यह आपके लिए एक अच्छा विकल्प है या नहीं, आपको अपने प्रजनन विशेषज्ञ के साथ इस उपचार की अनुमानित सफलता दर पर चर्चा करनी चाहिए।

यदि आई यू आई से आपको मदद नहीं मिलती है, तो आप अन्य उपचार भी देख सकते हैं, जैसे कि इन विट्रो फर्टिलिटी (आई वी एफ) उपचार करवाना।

(और पढ़ें - गर्भ में लड़का होने के लक्षण से जुड़े मिथक)

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

और पढ़ें ...