myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मशरूम जिसे बहुत से लोग कुकुरमुत्ता भी कहते हैं सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद होता है और यह खाने में बेहद टेस्टी माना जाता है। मशरूम की खासियत ये है कि यह लो कैलोरी फूड है जिसमें प्रोटीन और फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा मशरूम में विटामिन डी, विटामिन बी, आयरन और कई तरह के मिनरल्स और एंटीऑक्सिडेंट्स भी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं इसलिए इसे पोषक तत्वों का पावर हाउस भी कहा जाता है। 

मशरूम न सिर्फ इम्यूनिटी को मजबूत बनाता है बल्कि हृदय रोग से बचाता है, मोटापा दूर करने में मदद करता है, डायबिटीज में भी फायदेमंद है और पेट से संबंधी समस्याओं को भी दूर करने में मदद करता है मशरूम। कुल मिलाकर देखें तो मशरूम एक हेल्दी फूड है जिसे लोग अपने सलाद में, सूप में, पिज्जा या पास्ता में डालने के साथ ही मशरूम की टेस्टी सब्जी बनाकर भी खाना पसंद करते हैं। 

(और पढ़ें : मशरूम खाने के फायदे और नुकसान क्या है, जानें)

वैसे तो मशरूम एक सेफ फूड है लेकिन मशरूम की कुछ प्रजातियां ऐसी भी होती हैं जिन्हें खाने से ऐलर्जी हो सकती है, साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं और कई बार मशरूम ऐलर्जी जानलेवा भी साबित हो सकती है। मशरूम के कुछ प्रकार जैसे- जंगली मशरूम या मैजिक मशरूम का सेवन करने से कुछ लोगों में जी मिचलाना, उल्टी आना, डायरिया, पेट में दर्द जैसी समस्याएं भी देखने को मिल सकती हैं। ऐसे में आप किस तरह के मशरूम का सेवन कर रही हैं इस पर भी ध्यान देना जरूरी है। लेकिन क्या गर्भवती महिलाएं भी मशरूम खा सकती हैं? क्या मशरूम गर्भ में पल रहे बच्चे की सेहत के लिए सेफ है? इन सभी सवालों के जवाब हम आपको इस आर्टिकल में दे रहे हैं।

  1. क्या गर्भावस्था में मशरूम खा सकते हैं? - Kya pregnancy me mushroom khana safe hai?
  2. प्रेगनेंसी में कौन सा मशरूम खाएं, कौन सा नहीं? - Kaun sa mushroom pregnancy me safe hai?
  3. प्रेगनेंसी में मशरूम खाने के फायदे - Benefits of mushroom during pregnancy in hindi
  4. प्रेगनेंसी में मशरूम खाने के नुकसान - Garbhavastha me mushroom khane ke nuksan

अगर आपके मन में भी इस बात को लेकर शंका है कि आपको प्रेगनेंसी के दौरान मशरूम का सेवन करना चाहिए या नहीं और मशरूम कहीं आपके होने वाले बच्चे को कोई नुकसान तो नहीं पहुंचाएगा? तो इसका जवाब है कि प्रेगनेंसी में मशरूम खाना पूरी तरह से सेफ है। लेकिन यहां सबसे जरूरी ये है कि आप इस मशरूम का किस तरह से सेवन करती हैं। गर्भावस्था के दौरान कच्चा मशरूम बिलकुल नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे आपके साथ आपके गर्भ में पल रहे बच्चे को भी नुकसान हो सकता है। 

मशरूम, फफूंदी या फंगस का फल है जो मिट्टी, लकड़ी या दूसरे पौधों के ऊपर उगता है। लिहाजा कच्चे मशरूम का सेवन करना आपके और आपके गर्भ में पल रहे बच्चे दोनों के लिए हानिकारक हो सकता है। इसके अलावा कच्चा मशरूम कैंसरकारी होता है यानी इन्हें खाने से मां और गर्भ में पल रहे भ्रूण को भी कैंसर होने का खतरा रहता है। मशरूम को पकाने से उसके कैंसरकारी असर बेहद कम हो जाते हैं। साथ ही मशरूम के पोषक तत्व तब तक रिलीज नहीं होते जब तक उसे सही ढंग से पकाया न जाए। 

(और पढ़ें : कौन सी सब्जियां कच्ची या पका कर खानी चाहिए)

लिहाजा गर्भावस्था के दौरान सिर्फ पके हुए मशरूम का सेवन करना चाहिए और वह भी सिर्फ तभी जब आपको मशरूम से किसी तरह की कोई एलर्जी न हो। वैसे तो मशरूम को आमतौर पर गर्भवती महिला के लिए सुरक्षित ही माना जाता है, बावजूद इसके आपको इनका सेवन करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर या डायटिशियन से सलाह जरूर लेनी चाहिए। इसके अलावा मशरूम खरीदते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आप कौन सा मशरूम खरीद रही हैं क्योंकि कुछ मशरूम ऐसे भी होते हैं जिसमें विषाक्त पदार्थ होते हैं जिससे प्रेगनेंसी में नुकसान हो सकता है।

गर्भवती महिलाओं को खाने से संबंधी बीमारी जो सबसे ज्यादा प्रभावित करती है वह है लिस्टेरिओसिस जो गर्भवती महिला के शरीर में लिस्टेरिया बैक्टीरिया के जरिए प्रवेश करता है। लिस्टेरिया आमतौर पर कच्चे खाद्य पदार्थों या कम पके खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। जब गर्भवती महिला इस तरह का भोजन करती हैं तो उनका जी मिचलाने लगता है, उल्टी आने लगती है और पाचन से जुड़ी दूसरी समस्याएं हो जाती हैं। लिहाजा गर्भवती महिलाओं को भूल से भी कच्चा मशरूम नहीं खाना चाहिए। 

अगर आप प्रेगनेंसी के दौरान मशरूम खाना चाहती हैं तो एक बात हमेशा याद रखें कि कच्चा मशरूम बिलकुल न खाएं। मशरूम को अच्छी तरह से धोकर, पका लें उसके बाद ही उसका सेवन करें। ऐसा करने से मशरूम में मौजूद हानिकारक फफूंद पेट में जाकर आपके पाचन तंत्र को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे। इसके अलावा अगर आपको ये जानकारी नहीं है कि आपको मशरूम से एलर्जी है या नहीं तो गर्भावस्था के दौरान पका हुआ मशरूम थोड़ा सा खाएं और फिर देखें कि आपका शरीर इसके खिलाफ कैसी प्रतिक्रिया देता है। अगर किसी तरह का ऐलर्जिक रिऐक्शन नजर आए तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं और भविष्य में कभी भी मशरूम का सेवन न करें। 

(और पढ़ें : खाने से एलर्जी क्या है, लक्षण और जोखिम कारक)

मार्केट में सामान्य रूप से मिलने वाले वाइट बटन मशरूम, क्रेमिनी और ऑयस्टर मशरूम जो साफ-सुथरा दिख रहा हो वह गर्भावस्था के दौरान खाने के लिए सेफ माना जाता है। इसके अलावा शीताके मशरूम, टर्की टेल और रेशी मशरूम जो औषधीय मशरूम के तौर पर जाने जाते हैं उन्हें भी गर्भावस्था के दौरान खाना सुरक्षित माना जाता है।  

कच्चे मशरूम के अलावा मैजिक मशरूम भी मशरूम का एक प्रकार है जिसका सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए। मैजिक मशरूम जंगली मशरूम होते हैं जिन्हें खाने से मांसपेशियों में कमजोरी, चक्कर आना, जी मिचलाना, सिर घूमना और उल्टी जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। लिहाजा किसी भी तरह के जंगली मशरूम का भी सेवन गर्भावस्था के दौरान नहीं करना चाहिए।

विटामिन डी का सोर्स है मशरूम
मशरूम विटामिन डी से भरपूर होता है और इसलिए गर्भावस्था में इसका सेवन करना चाहिए। दरअसल, विटामिन डी कैल्शियम को सोखने में मदद करता है जिससे गर्भ में पल रहे भ्रूण की हड्डियां और दांत मजबूत बनते हैं। 1 कप शीताके मशरूम में 12.6 यूनिट तक विटामिन डी पाया जाता है। 

प्रोटीन और फाइबर से भरपूर मशरूम
मशरूम प्रोटीन का एक बेहतरीन वेजिटेरियन सोर्स है। प्रोटीन, गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास के लिए बेहद जरूरी है इसलिए गर्भावस्था में प्रोटीन से भरपूर मशरूम का सेवन जरूर करना चाहिए। इसके अलावा मशरूम में फाइबर भी पाया जाता है जो कब्ज और पेट में गैस की समस्या को दूर करने के साथ ही थकान को दूर कर आपको दिनभर एनर्जी भी देने का काम करता है।

(और पढ़ें : प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

मशरूम में होते हैं आयरन और एंटीऑक्सिडेंट्स
आयरन, खून की लाल रक्त कोशिकाओं में हीमोग्लोबिन बनाने में मदद करता है जो प्रेगनेंसी के दौरान बेहद जरूरी है ताकि आप गर्भावस्था के दौरान एनीमिया की समस्या से बची रहें। मशरूम में आयरन भरपूर मात्रा में होता है। इसके अलाव मशरूम में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं और साधारण बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं।

विटामिन बी का अच्छा सोर्स है मशरूम
विटामिन बी1, बी2, बी3 और बी5 जैसे पोषक तत्वों का प्राकृतिक सोर्स है मशरूम। विटामिन बी के ये सभी तत्व बच्चे की स्किन को हेल्दी बनाते हैं, आंखों की रोशनी बढ़ाते हैं, हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। लिहाजा प्रेगनेंसी के दौरान विटामिन बी के फायदे पाने के लिए भी मशरूम का सेवन करना चाहिए।

अगर आपने गर्भावस्था के दौरान मशरूम के सेवन को लेकर अपने डॉक्टर और डायटिशियन से परमिशन ले ली है तब भी आपको मशरूम का सेवन करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए वरना आपको कुछ दुष्प्रभाव नजर आ सकते हैं। जैसे- जी मिचलाना और उल्टी आना, हार्ट रेट बढना, ब्लड प्रेशर बढना, शरीर का तापमान बढना, मांसपेशियों में कमजोरी महसूस होना, चक्कर आना, शरीर का संतुलन बनाने में दिक्कत महसूस होना आदि।

लिहाजा गर्भावस्था में मशरूम का सेवन करने से पहले इन बातों का ध्यान रखें:

  • मशरूम हमेशा ताजे खरीदकर लाएं और उन्हीं का सेवन करें
  • प्रोसेस्ड और फ्रोजन मशरूम का सेवन करने से बचें। अगर करना ही हो तो थोड़ी मात्रा में खाएं और एक्सपायरी डेट जरूर चेक कर लें
  • कच्चे मशरूम का सेवन बिलकुल न करें
  • मशरूम खरीदते वक्त देखें कि उस पर खरोंच या सड़ने के कोई निशान न हों 
  • प्रेगनेंसी का समय खाने को लेकर किए जाने वाले एक्सपेरिमेंट के लिए सही नहीं है। इसलिए अगर आप पहले मशरूम नहीं खाती थीं तो इसे प्रेगनेंसी के दौरान शुरू करने की जरूरत नहीं।
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें