myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

प्रेगनेंसी की वजह से न सिर्फ आपके शरीर में बल्कि आपकी त्वचा में भी कई तरह के बदलाव आते हैं। वैसे तो इनमें से ज्यादातर बदलाव डिलिवरी यानी बच्चे के जन्म के बाद खुद-ब-खुद गायब हो जाते हैं लेकिन कई बार कुछ समस्याएं रह जाती हैं और उन्हीं में से एक है- ढीली त्वचा। आप अकेली नहीं हैं जिसके साथ ऐसा हो रहा है। बच्चे के जन्म के बाद बाद बड़ी संख्या में महिलाओं की पेट की त्वचा ढीली हो जाती है जिस कारण उन्हें अपने शरीर को लेकर शर्म और संकोच महसूस होने लगता है। हमारी त्वचा कोलाजन और इलास्टिन से बनी होती है और इसलिए वजन बढ़ने और पेट का आकार बढ़ने के साथ ही त्वचा में भी विस्तार हो जाता है। एक बार स्ट्रेच हो जाने के बाद त्वचा को पहले वाले शेप में आने में मुश्किल होती है।

(और पढ़ें - स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय)

पेट की ढीली त्वचा बहुत सी महिलाओं के लिए भावनात्मक रूप से निराशा या कुंठा भरा अनुभव हो सकता है क्योंकि वे चाहती हैं कि प्रेगनेंसी के बाद उनका शरीर फिर से पहले जैसा ही हो जाए। लेकिन आपको ये याद रखना होगा कि डिलिवरी के बाद आपके शरीर को फिर से प्रेगनेंसी से पहले वाले शेप में जाने में समय लगेगा। यह तुरंत नहीं हो जाएगा। आपके शरीर ने एक नए जीवन को जन्म दिया है, इसलिए खुद पर सख्त न हों। 

इस आर्टिकल में हम आपको बता रहे हैं कि आखिर बच्चे के जन्म के बाद त्वचा ढीली क्यों हो जाती है, इसे फिर से पहले की तरह होने में कितना समय लगता है और साथ ही में कुछ बेहद आसान तरीके भी बता रहे हैं जिन्हें अगर आप अपनी डेली रूटीन में अपना लें तो आपको गर्भावस्था के बाद ढीली स्किन में फिर से कसाव लाने में मदद मिलेगी।

  1. प्रेगनेंसी के बाद त्वचा ढीली क्यों हो जाती है? - Why does skin become loose after pregnancy in hindi?
  2. गर्भावस्था के बाद ढीली त्वचा टाइट होने में कितना समय लगता है? - How much time for skin to become normal in hindi?
  3. प्रेगनेंसी के बाद ढीली त्वचा में कसाव के लिए करें कार्डियो एक्सरसाइज - Cardio exercise for skin tightening in hindi
  4. स्किन को टाइट करने में मददगार है स्ट्रेंथ ट्रेनिंग - Strength training for loose skin in hindi
  5. गर्भावस्था के बाद स्किन में कसाव के लिए डाइट में करें बदलाव - Pregnancy ke baad loose skin ke liye diet kare change
  6. प्रेगनेंसी के बाद स्किन में कसाव लाने के लिए पिएं खूब सारा पानी - Skin me kasav ka liye piye pani
  7. ढीली स्किन में कसाव के लिए तेल से करें मसाज - Skin tight karne ke liye oil se kare massage
  8. गर्भावस्था के बाद स्किन टाइट करने के लिए इलेक्टिव सर्जरी - Elective surgery for skin tightening in hindi

त्वचा हमारे शरीर का सबसे बड़ा अंग है। गर्भावस्था के दौरान हार्मोन्स और खून के प्रवाह में होने वाले बदलाव की वजह से शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं जिसका असर हमारी त्वचा पर भी दिखता है। जैसे- वैरीकोज वेन्स की समस्या, त्वचा पर स्ट्रेस मार्क्स (खिंचाव के निशान), रंजकता या पिग्मेंटेशन, त्वचा पर झाइंयां आदि। गर्भावस्था के 9 महीने के दौरान आपकी पेट की स्किन बढ़ते बच्चे को समायोजित करने के लिए स्ट्रेच होने लगती है। इसलिए बच्चे के जन्म के बाद पेट की त्वचा को अपने मूलभूत आकार में वापस आने और ढीली त्वचा में फिर से कसाव आने में भी काफी समय लग जाता है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी के बाद पेट कम करने का उपाय)

प्रेगनेंसी के बाद पेट की मांसपेशियां ढीली हो जाती हैं, जिसमें फैट के साथ ही अतिरिक्त त्वचा भी होती है जिसकी वजह से पेट खासकर नाभि के आसपास की त्वचा लटकी हुई दिखती है। इसे ही सामान्य तौर पर प्रेगनेंसी पाउच या मॉमी पूच भी कहा जाता है।

नई मांओं को हम बता दें कि प्रसव के तुरंत बाद आपका पेट फिर से प्रेगनेंसी के पहले जैसा नहीं हो जाता। वजन घटाने की समय सीमा प्रत्येक महिला के लिए अलग-अलग कारकों के आधार पर भिन्न-भिन्न होती है। जैसे- गर्भवती होने के दौरान आपका कितना वजन बढ़ा था, आप बच्चे को स्तनपान करवाती हैं या नहीं, आपके आहार और व्यायाम की आदतें क्या और कैसी हैं आदि। लिहाजा पेट की इस ढीली और लटकी हुई त्वचा (प्रेगनेंसी पाउच) को फिर से सामान्य होने में कुछ महीनों का वक्त लग सकता है। लेकिन यह भी सच है कि कुछ महिलाओं में यह समस्या पूरी तरह से कभी ठीक नहीं होती।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में वजन कितना होना और बढ़ना चाहिए)

कार्डियो एक्सरसाइज वसा को जलाने और आपकी मांसपेशियों को टोन करने में मदद कर सकता है। इसके लिए आप चाहें तो रोजाना तेज कदमों से चलें, स्विमिंग करें, जॉगिंग करें या साइकिल चलाएं। एक्सरसाइज से जुड़ी कोई भी नई रूटीन शुरू करने से पहले, अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या फिर से पहले की तरह सक्रिय होना ठीक है। धीरे-धीरे शुरुआत करें और फिर तीव्र गतिविधियों की ओर आगे बढ़ें। नियमित व्यायाम अतिरिक्त त्वचा को रोकने या कम करने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - व्यायाम करने का सही समय क्या है- सुबह या शाम)

अपने पूरे शरीर के साथ-साथ पेट की मांसपेशियों को टोन करने और उन्हें सही शेप देने में स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वर्कआउट आपकी मदद कर सकता है। मसल टोन बनाने से भी ढीली स्किन को टाइट करने में सकारात्मक तौर पर मदद मिलती है। इसके लिए आप चाहें तो सिटअप्स या पुशअप्स कर सकती हैं, पिलाटेज, योग, प्लांक आदि भी आपकी पेट की कोर मसल्स, हिप और ग्लूट मसल्स को टाइट बनाने में मददगार है। अगर आप किसी ट्रेनर के साथ मिलकर स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वर्कआउट कर रही हैं तो उन्हें बताएं कि आपकी हाल ही में डिलिवरी हुई है क्योंकि कुछ एक्सरसाइज या मूव्स ऐसे भी हैं जिनसे आपको बचना चाहिए।

अपनी डाइट में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिससे आपको स्वस्थ प्रोटीन और वसा मिल सके। इस तरह की चीजों को खाने से आपको मांसपेशियों के निर्माण में मदद मिल सकती है। प्रोटीन में कोलाजन भी होता है। हर महिला की प्रोटीन की जरूरत अलग-अलग होती है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितना व्यायाम करती हैं और साथ ही साथ आपकी हाइट और आपका वजन कितना है। अगर आप बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तब भी आपको अधिक प्रोटीन की आवश्यकता हो सकती है।

(और पढ़ें - गर्भवती महिलाओं को कब लेना चाहिए प्रोटीन पाउडर)

गर्भावस्था के बाद ढीली त्वचा को कसने के लिए हाइड्रेशन या जलयोजन आवश्यक है। पानी त्वचा को हाइड्रेट करने और इसे अधिक लोचदार बनाने में मदद करता है। आपका शरीर भी अधिक पानी के साथ बेहतर और कुशल तरीके से काम करता है। पानी, अधिक आसानी से वसा को जला सकता है और आपके पेट में पानी के प्रतिधारण (वॉटर रिटेंशन) को कम कर सकता है। इसलिए रोजाना 2 से 3 लीटर पानी जरूर पिएं।

(और पढ़ें - पानी कब कितना और कैसे पीना चाहिए)

प्रेगनेंसी के बाद जो स्किन ढीली हो गई है उसकी मरम्मत कर उसमें वापस से कसाव लाने में मदद कर सकते हैं कुछ पौधे-आधारित तेल। प्लांट-बेस्ड तेल में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और ऐंटी-इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज की वजह से ऐसा हो सकता है। उदाहरण के लिए, बादाम का तेल प्रेगनेंसी के दौरान पेट पर दिख रहे स्ट्रेच मार्क्स ( खिंचाव के निशान) को दूर करने में मदद कर सकता है।

कैरियर या वाहक तेलों में इसेंशियल या आवश्यक तेलों को मिलाकर पतला किया जाता है जिस कारण त्वचा के स्वास्थ्य के लिए इनके कई फायदे होते हैं। पेट की त्वचा को कसने में मदद करने के लिए टमी लाइन के आसपास जोजोबा तेल या नारियल तेल जैसे रबिंग कैरियर ऑइल से अच्छी तरह से मसाज करें। आप चाहें तो इसमें आवश्यक तेल जैसे लोबान या नेरोली की कुछ बूंदें भी मिला सकते हैं।

(और पढ़ें - मसाज के फायदे और करने का तरीका)

आप चाहें तो मसाज के लिए विटामिन के, सी, ई और ए के अलावा कोलाजन से भरपूर क्रीम का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। ये चीजें ढीली त्वचा में कसाव लाने में मदद करती हैं। क्रीम या लोशन लगाने के बाद अच्छी तरह से मसाज करें। मसाज करने से रक्त का संचार बेहतर होता है जिससे त्वचा टाइट दिखने लगती है।

एब्डोमिनोप्लास्टी या टमी टक सर्जरी भी पेट के आसपास मौजूद अतिरिक्त स्किन को हटाकर मांसपेशियों में कसाव लाने का एक विकल्प है। लेकिन याद रखिए कि यह वजन घटाने या किसी एक्सरसाइज प्रोग्राम की जगह नहीं ले सकता। सर्जरी के दौरान डॉक्टर पेट को काटकर अतिरिक्त स्किन हटा देते हैं। बची हुई स्किन को टांका लगाकर साथ में जोड़ दिया जाता है और नाभि के लिए नई जगह भी बना दी जाती है। हालांकि यह सर्जरी बहुत महंगी होती है। इसलिए अपने डॉक्टर से बात करें और आपके लिए जो विकल्प सबसे सही हो उसका चुनाव करें।

(और पढ़ें - त्वचा में कसावट लाने के लिए बेस्ट हैं ये तेल)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें