कमर दर्द एक ऐसी समस्या है जो हमें कभी-कभी अपने दैनिक कार्य तक करने से बाधित कर देती है। कमर दर्द कई स्वास्थ्य स्थितियों में एक सामान्य लक्षण के रूप में जाना जाता है, जैसे कि सायटिका, सैक्रोइलिअक जोड़ों का दर्द, स्लिप्ड डिस्क, पिरिफोर्मिस सिंड्रोम, कमजोर हड्डियां और ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या होना, योनि से संबंधित संक्रमण आदि। कुछ आहार परिवर्तनों के साथ, कमर के दर्द को नियंत्रित किया जा सकता है। इस लेख में, हम उन खाद्य विकल्पों पर चर्चा करेंगे और इस स्थिति को नियंत्रित करने के लिए एक भारतीय डाइट प्लान भी साझा करेंगे :

(और पढ़ें - योनि में संक्रमण के घरेलू उपाय)

  1. कमर दर्द को ठीक करने के लिए क्या खाएं - What to eat for back pain In Hindi
  2. कमर दर्द के दौरान क्या नहीं खाना चाहिए - What not to eat during back pain in Hindi
  3. कमर दर्द को ठीक करने के लिए भारतीय डाइट प्लान - Indian diet plan for back pain in Hindi
  4. कमर दर्द के दौरान क्या खाना चाहिए, क्या न खाएं और डाइट प्लान के डॉक्टर

कुछ खाद्य विकल्प कमर के दर्द को कम करने में मदद करते हैं, उन्हें अपने नियमित आहार में शामिल करने का प्रयास करें। जो इस प्रकार हैं :

अदरक - Ginger helps back pain in hindi

अदरक भारतीय व्यंजनों में आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला भोज्य पदार्थ है। अदरक का उपयोग खांसी, सर्दी और खराब पाचन के इलाज के लिए काफी समय से किया जा रहा है, लेकिन इसके एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों के विषय में काफी कम लोग जानते हैं, जो कि कमर के दर्द को कम करने में काफी हद तक मदद करते हैं। अदरक के कुल लाभ के लिए, इसे 1 चम्मच शहद के साथ 2 चम्मच अदरक के रस के रूप में लेने की कोशिश करें। अन्यथा, आप इसे अपनी चाय, करी, सलाद या तड़के के रूप में अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - कमर दर्द के घरेलू उपाय)

हल्दी - Turmeric good for back pain in Hindi

हल्दी अपने औषधीय लाभों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है, जो हमारे शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करती है, हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को अच्छा बनाती है, सूजन को कम करती है, आदि। इसके एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण, यह कमर के हिस्से में सूजन को कम करने और दर्द को कम करने में मदद करता है। ऐसे में रोजाना 2-5 ग्राम हल्दी लेने की कोशिश करें। आप इसे हल्दी वाला दूध, चाय, अचार या कैप्सूल के रूप में ले सकते हैं।

(और पढ़ें - हल्दी और शहद के फायदे)

अंडा - Add egg in your daily diet to treat back pain in Hindi

कमजोर हड्डियां कमर दर्द के सामान्य कारणों में से एक हैं। कैल्शियम और विटामिन डी वे पोषक तत्व हैं जो हड्डियों को स्वस्थ रखने का काम करते हैं। अंडा कैल्शियम और विटामिन डी से भी भरपूर होता है। संपूर्ण लाभ के लिए एक पूरे अंडे को अपने दैनिक आहार में लेने की कोशिश करें। आप इसे उबला हुआ, भुर्जी, सब्जी आदि के रूप में ले सकते हैं।

(और पढ़ें - कमर दर्द की होम्योपैथिक दवा)

रागी - Ragi can be helpful in back pain in Hindi

कैल्शियम हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक पोषक तत्वों में से एक है। यदि आपको लैक्टोज इन्टॉलरेंट की समस्या हैं और आप शाकाहारी हैं, तो रागी आपकी कैल्शियम की आवश्यकता को पूरा करने के लिए एक बढ़िया विकल्प साबित हो सकती है। 100 ग्राम रागी में 344 मिलीग्राम कैल्शियम होता है। आप इस सुपरफूड को अपने सूप, डोसा, पुट, चीला आदि के तौर पर शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - कैल्शियम युक्त भारतीय आहार)

वर्जिन ऑलिव आयल - Add virgin olive oil to treat back pain in Hindi

अपने सलाद या अपनी चटनी में वर्जिन जैतून के तेल का उपयोग करके कमर दर्द को कम करने और सूजन को कम करने में काफी मदद मिल सकती है। जैतून के तेल में ओलोकोन्थल की अच्छी मात्रा होती है, जो आइबूप्रोफेन की तरह दर्द निवारक का काम करता है। इसमें स्नेहक भी होता है, जो हमारे जोड़ों के द्रव को संरक्षित करता है, जो कि हमारी कमर की हड्डियों को चोट से बचाता है और चोट को ठीक करने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें - कमर दर्द के लिए योगासन)

डार्क चॉकलेट - Dark chocolate for back pain in Hindi

डार्क चॉकलेट मैग्नीशियम से भरपूर होती है, जो हमारे शरीर और हमारी हड्डियों को स्वस्थ बनाने में मदद करती है। मैग्नीशियम उन खनिजों में से एक है जो हमारी हड्डियों की संरचना के लिए काफी हद तक जिम्मेदार होता है। यदि आपके शरीर में मैग्नीशियम की कमी है, तो ऐसे में कमी की पूर्ति हड्डियों द्वारा ही होनी शुरू हो जाती है। आमतौर पर पीठ एवं कमर दर्द के रोगियों में मैग्नीशियम की कमी देखी जाती है। आवश्यकता को पूरा करने के लिए, आप अपने शेक, मिठाई या पेय में डार्क चॉकलेट के 1-2 ब्लॉक या बिना चीनी युक्त कोको पाउडर का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़ें - मैग्नीशियम युक्त आहार)

हरे पत्ते वाली सब्जियां - Green leafy vegetables for back pain in Hindi

हरी पत्तेदार सब्जियां विटामिन K से भरपूर होती हैं। विटामिन K रक्त का थक्का जमने, स्वस्थ हड्डियों और अन्य शारीरिक कार्यों के लिए जाना जाता है। यह आपकी डिस्क में कैल्शियम को बांधने के लिए, उन्हें मजबूत बनाने और आगे की चोटों से बचाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि आप गंभीर कमर दर्द से पीड़ित हैं, तो यह खाद्य समूह आपको इसे नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। अपने दैनिक आहार में सभी मौसमी हरी सब्जियां जैसे कि पालक, चौलाई, मेथी के पत्ते, पत्ता गोभी आदि को शामिल करने का प्रयास करें। आप उन्हें सलाद, सूप, करी, आदि के रूप में ले सकते हैं।

(और पढ़ें - कैल्शियम की कमी के लक्षण)

थाइम - Thyme good for back pain in Hindi

थाइम ब्रोंकाइटिस, काली खांसी, गले में खराश, कृमि संक्रमण, त्वचा से संबंधित विकार, पेट की खराबी, गैस्ट्राइटिस, आदि के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली एक जड़ी-बूटी के रूप में जाना जाता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि थाइम में कुछ ऐसे प्राकृतिक यौगिक पाए जाते हैं, जो दर्द निवारक के रूप में काम करते हैं। थाइम का उपयोग ताजा और सूखी जड़ी-बूटियों के रूप में किया जा सकता है। इसे आप विभिन्न भोजन जैसे कि घर पर बने पास्ता, सलाद, पिज्जा आदि में ले सकते हैं।

(और पढ़ें - ब्रोंकाइटिस डाइट)

मछली - Fish reduce back pain in Hindi

हड्डियों समेत खाई जाने वाली मछलियों में कैल्शियम एवं विटामिन डी की काफी अच्छी मात्रा होती है, जो कि हड्डियों एवं जोड़ों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्व माने जाते हैं। ये मछलियां ओमेगा 3 फैटी एसिड से भी भरपूर होती हैं, जो कि कमर दर्द के दौरान होने वाली सूजन एवं तंत्रिका संबंधी समस्याओं को भी दूर करती हैं। अतः अपने नियमित आहार में साबुत मछली को शामिल करके इस समस्या को ठीक किया जा सकता है।

(और पढ़ें - मछली के तेल के नुकसान)

खमीर युक्त भोजन - Fermented food for back pain in Hindi

यदि आप बार-बार कमर दर्द से पीड़ित होते हैं और इसका कारण नहीं समझ पा रहे हैं, तो आप अपने विटामिन बी 12 के स्तर की जांच कर सकते हैं, जो शरीर में होने वाले दर्द के कारणों में से एक है। कई बीमारियों में तंत्रिका तंत्र की समस्याओं के कारण भी कमर दर्द देखा जाता है, जैसे कि सायटिका, स्लिप्ड डिस्क आदि। ऐसी स्थितियों में, खमीर युक्त भोजन सहायक साबित हो सकते हैं। खमीर युक्त भोजन विटामिन बी 12 में समृद्ध होते हैं, जो हमारे शरीर में एक स्वस्थ तंत्रिका तंत्र को बनाए रखने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - सायटिका का घरेलू उपाय)

खमीर युक्त भोज्य पदार्थ प्रोबायोटिक्स से भी भरपूर होते हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि प्रोबायोटिक्स हमारे शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं, जो कि वजाइनल इन्फेक्शन को भी कम करने में मदद करते हैं, यह महिलाओं में कमर दर्द का एक मुख्य कारण है। इस फूड ग्रुप को अपनी डाइट में शामिल करने के लिए आप दही चावल, डोसा, इडली, ढोकला, जलेबी, एखोनी, केफिर आदि को अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में कमर दर्द का इलाज)

अंगूर - Grapes can be helpful in back pain in Hindi

अंगूर से एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी होती है, जिसे रेसवेराट्रोल के रूप में जाना जाता है। यह हमारे ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है, एक एंटी-कार्सिनोजेनिक एजेंट के रूप में काम करता है, हमारे मस्तिष्क की कोशिकाओं को क्षति से बचाता है, संक्रमण को कम करता है और एक एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करता है, जो कि कमर दर्द को नियंत्रित करने के में मदद करता है।

(और पढ़ें - अंगूर के तेल के फायदे)

कुछ ऐसे खाद्य विकल्प हैं जो पीठ में सूजन और दर्द को बढ़ा सकते हैं। अपने कमर दर्द की समस्या के दौरान, इन खाद्य पदार्थों से बचें :

  • वनस्पति तेल - सूरजमुखी, मिश्रित वनस्पति तेल और मकई का तेल, आदि।
  • सभी प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ - जैम, जेली, रेडी-टू-ईट फूड आदि।
  • सैचुरेटेड वसा और ट्रांस फैट वाले खाद्य पदार्थ - पैकेज्ड स्नैक्स, बर्गर, पिज्जा, फ्रेंच फ्राइज आदि।
  • फुल फैट डेयरी प्रोडक्ट
  • चीनी
  • शराब

(और पढ़ें - शराब छुड़ाने के उपाय)

यहां हम कमर दर्द को नियंत्रित करने के लिए एक भारतीय डाइट प्लान शेयर कर रहे हैं, जिसका उपयोग करके आप किसी भी प्रकार के कमर दर्द को नियंत्रित कर सकते हैं -

सुबह खाली पेट - गर्म पानी (1 गिलास) + खजूर (2) + किशमिश (8-10) और बादाम (5-6) - भीगे हुए
सुबह का नाश्ता - सब्जियों की भरवां चपाती (2) + दही (1 कटोरी)
मध्य भोजन - फलों का सलाद (1 कटोरी) / छाछ (1 गिलास)
दोपहर का खाना - मटर पुलाव (1 कटोरी) + सोया करी (1 कटोरी) + खीरे का रायता (1 कटोरी)
शाम की चाय - ग्रीन टी (1 कप) + भुना चना (1 कटोरी)
रात का खाना - वेजिटेबल सूप (1 कटोरी ) + गेहूं की चोकर सहित चपाती (2) + पनीर / चिकन करी (1 कटोरी)
सोते समय - हल्दी वाला दूध (1 गिलास)

Dt. Rajni Sharma

Dt. Rajni Sharma

आहार विशेषज्ञ
6 वर्षों का अनुभव

Dt. Ayushi Shah

Dt. Ayushi Shah

आहार विशेषज्ञ
2 वर्षों का अनुभव

Dr. Yogita Johar

Dr. Yogita Johar

आहार विशेषज्ञ
1 वर्षों का अनुभव

Dt. Miksha Arora

Dt. Miksha Arora

आहार विशेषज्ञ
2 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ