• हिं
साइटिका एक ऐसी स्वास्थ सम्बंधित समस्या है, जिसमें पीठ, कूल्हे और पैर के बाहरी हिस्से में दर्द होता है। साइटिका का दर्द पीठ के निचले हिस्से में एक तंत्रिका (nerve) में जलन, सूजन या दबाव के कारण होता है। यह दर्द हर व्यक्ति में अलग-अलग कारणों से हो सकता है। कुछ ऐसे आहार है जिनको खाने से शरीर में सूजन को कम करने के साथ साइटिका के असहनीय दर्द को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। इस लेख में हम चर्चा करेंगे कि साइटिका के दर्द से राहत पाने के लिए क्या खाना चाहिए और साथ ही एक भारतीय डाइट प्लान भी साझा करेंगे। तो चलिए जानते हैं साइटिका के दर्द के लिए आपको अपने आहार में किन चीजों का सेवन करना चाहिए।
 
  1. साइटिका के दर्द में क्या खाना चाहिए? - Food for Sciatica pain in Hindi
  2. साइटिका के दर्द को कम करने वाले पोषक तत्व - Nutrient which helps to control sciatica nerve pain in Hindi
  3. साइटिका में क्या नहीं खाएं और परहेज - What not to eat in Pain in Sciatica in Hindi
  4. साइटिका के दर्द के लिए भारतीय डाइट प्लान - Indian diet plan for Sciatic nerve pain in Hindi
साइटिका के दर्द में क्या खाना चाहिए, क्या नहीं और परहेज के डॉक्टर

कुछ खाद्य पदार्थ साइटिका के दर्द को कम करने में मदद करते हैं। वे इस प्रकार हैं :

हरी पत्तेदार सब्जियां - Take green leafy vegetables in sciatica pain in Hindi

हरी पत्तेदार सब्जियां साइटिका के दर्द से लड़ने के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत हैं। हरी पत्तेदार सब्जियों में काफी अच्छी मात्रा में विटामिन ए, सी, K, बी9 आदि होते हैं। साइटिका के दर्द से पीड़ित व्यक्तियों के आहार में हरी पत्तेदार सब्जियों का एक हिस्सा अनिवार्य होना चाहिए। हरी पत्तेदार सब्जियां न सिर्फ साइटिका के दर्द से राहत पाने में मदद करती हैं बल्कि अन्य कई रोगों को जन्म देने वाले कारकों को भी नियंत्रित करती हैं जैसे वजन, रक्त में लिपिड और ब्लड ग्लूकोज का बढ़ना।

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल टेस्ट क्यों किया जाता है)

हल्दी - Turmeric can be helpful in sciatica pain in Hindi

हल्दी में करक्यूमिन नामक एक तत्व होता है, जो एक सूजन-रोधी एजेंट के रूप में कार्य करता है, जो कुछ सूजन-उत्तेजक एंजाइमों के स्तर को कम करके साइटिका दर्द और सूजन से राहत दिलाने में मदद करता है। अपने दैनिक आहार में करक्यूमिन को लेने के लिए, हल्दी पाउडर को हल्दी वाला दूध के रूप में, अपनी सब्जियों, दाल या चाय आदि में ले सकते हैं।

(और पढ़ें - साइटिका का होम्योपैथिक इलाज)

प्याज - Onion in sciatica pain in Hindi

प्याज में क्वेरसेटिन (एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट) की अच्छी मात्रा होती है, जो कि साइटिका के दर्द को कम करने में मदद करता है। एक अध्ययन कहता है, "क्वेरसेटिन का मानव स्वास्थ्य पर कई लाभकारी प्रभाव हैं, जैसे हृदय स्वास्थ्य संबंधी और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव।" इसलिए आपके दैनिक आहार में प्याज की नियमित मात्रा का सेवन करने से साइटिका के दर्द को कम करने में भी मदद मिल सकती है। इसे अपने सलाद, सूप या करी रूप में लेने की कोशिश करें।

यदि आप सांस में होने वाली बदबू (जो इस भोजन के साथ एक आम समस्या है) के बारे में असहज हैं और प्याज का सेवन नहीं करते, तो इस समस्या से बचने के लिए कच्चा प्याज लेने के बाद एक चम्मच सौंफ के बीज को शक्कर के साथ ले सकते हैं।

क्रुसिफेरस वेजिटेबल - Add cruciferous vegetable in sciatica pain in Hindi

क्रुसिफेरस सब्जियां कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं, जैसे कि बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन, जेक्सैंथिन, विटामिन सी, ई और के, फोलेट आदि। क्रूसिफाइड सब्जियों की एक दैनिक खुराक शरीर में सूजन एवं इस रोग से संबंधित दर्द को कम करने के लिए मददगार साबित हो सकती है। दर्द को नियंत्रित करने और इस बीमारी की स्थिति में सुधार करने के लिए, अपने दैनिक आहार में मौसमी फूलगोभी, पत्ता गोभी, ब्रोकली, बोक चोय, मूली, शलजम आदि ले सकते हैं।

(और पढ़ें - विटामिन ई के फायदे)

ग्रीन टी - Green tea can be beneficial in sciatica pain in Hindi

ग्रीन टी फ्लेवोनोइड (एक प्रकार का मजबूत एंटीऑक्सीडेंट) का एक समृद्ध स्रोत है जो शरीर में सूजन को कम करने में मदद करता है, साथ ही फ्री रेडिकल्स से लड़ने में मदद करता है। कुछ साक्ष्य ये बताते हैं कि नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करने से आपको पेरीफेरल सेंसेशन और दर्द को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है, जो इस बीमारी की बहुत आम समस्या है।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)

अदरक - Ginger can be helpful in sciatica pain in Hindi

यदि आप इस स्थिति से पीड़ित हैं, तो अदरक को अपने भोजन में शामिल करने से आपको काफी लाभ मिल सकता है। इस मसाले में मैंगनीज और विटामिन बी 3 अच्छी मात्रा में होते हैं जो एंटी इंफ्लेमेटरी प्रक्रिया में मदद करते हैं। अपनी चाय, अचार, करी या शहद के साथ कच्चे अदरक के रस के रूप में इस सुपरफूड को शामिल करना फायदेमंद साबित हो सकता है।

(और पढ़ें - अदरक वाली चाय के फायदे)

कुछ पोषक तत्व हैं जो दर्द को कम करने और इस बीमारी की स्थिति में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। वे इस प्रकार हैं :

मैग्नीशियम - Take magnesium rich diet in sciatica pain in Hindi

कई शोध कहते हैं, "मैग्नीशियम की नियमित खुराक विभिन्न न्यूरोलॉजिकल विकारों में सुधार लाने में मददगार साबित हो सकती है।" एक अध्ययन यह भी बताता है कि मैग्नीशियम युक्त आहार लेने से न्यूरोलॉजिकल फंक्शन रिकवरी में सुधार मिलने के साथ-साथ सायटिक तंत्रिका में लगी चोट को भी ठीक करने में मदद कर सकता है। इस पोषक तत्व को अपने आहार में शामिल करने के लिए पकी हुई काली बीन्स, छोले, टोफू, बादाम, काजू, अलसी, पालक, भिंडी, इमली आदि ले सकते हैं।

(और पढ़ें - मैग्नीशियम की कमी से लक्षण)

विटामिन बी 12 - Vitamin B12 is helpful in sciatica pain in Hindi

विटामिन बी 12 को तंत्रिका स्वास्थ्य के लिए एक सहायक पोषक तत्व के रूप में जाना जाता है और विटामिन बी 12 की कमी होना आपके साइटिका के दर्द का कारण माना जाता है। विटामिन बी 12 से भरपूर खाद्य पदार्थों को खाने से आपको इस दर्द को कम करने और इस बीमारी की स्थिति को सुधारने में काफी हद तक मदद मिल सकती है। दूध और दूध से बने उत्पाद, खमीरयुक्त भोजन, मीट, अंडे आदि इस पोषक तत्व के अच्छे स्रोत हैं। उन्हें अपने नियमित आहार में शामिल करें।

(और पढ़ें - विटामिन बी 12 टेस्ट क्या है?)

ओमेगा 3 फैटी एसिड्स - Omega 3 fatty acids rich food in sciatica pain in Hindi

ओमेगा 3 फैटी एसिड को फाइटोन्यूट्रिएंट्स के रूप में भी जाना जाता है। यह शरीर में सूजन को कम करने और साइटिका के दर्द को कम करने के लिए जाना जाता है। ओमेगा -3 फैटी एसिड शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने के लिए भी जाना जाता है। कुल लाभ के लिए, अपने आहार में मछली को शामिल करें जैसे कि बांगड़ा, सुरमई, रावसा, हिलसा आदि। इन मछलियों को सप्ताह में 2-3 बार लें। यदि आप शाकाहारी हैं, तो अपने दैनिक आहार में अलसी के बीज, जैतून का तेल, कद्दू के बीज और अखरोट जैसे एंटी-इंफ्लेमेटरी खाद्य विकल्पों का चयन करें।

(और पढ़ें - इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय)

फाइबर - Fiber-rich food in sciatica pain in Hindi

कब्ज की समस्या साइटिका के दर्द को बढ़ाने का कार्य करती है। इससे बचने के लिए फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कि मोटे अनाज, साबुत फलियां, ताजी सब्जियां एवं फल, इसबगोल की भूसी आदि लेने की कोशिश करें।

(और पढ़ें - कब्ज में क्या खाना चाहिए)

पानी की भरपूर मात्रा लें - Drink plenty of water in sciatica pain in Hindi

पानी हमारे शरीर में हीलिंग प्रक्रिया सहित सभी आवश्यक कार्यों में एक आवश्यक भूमिका निभाता है। प्रति दिन कम से कम 2.5-3 लीटर (लगभग 10-12 गिलास) पानी पीने की कोशिश करें। आप अदरक के टुकड़े, पार्सले, नींबू के टुकड़े आदि को सादे पानी में डालकर डिटॉक्स वाटर आदि के रूप में भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें - धनिया पानी के फायदे)

कुछ खाद्य विकल्प इस स्थिति में दर्द को बढ़ा सकते हैं, उनसे बचने की कोशिश करें। वे यहां हैं :

आसानी से पचने वाले कार्बोहाइड्रेट - Avoid refined carbohydrate in sciatica pain in Hindi

कई साक्ष्य ये बताते हैं कि बहुत अधिक चीनी एवं रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट खाने से शरीर में सूजन की समस्या बढ़ सकती है जो कि रोग की स्थिति एवं दर्द को बढ़ा सकती है, इसलिए सफेद चीनी, शहद, फलों का जूस, मैदा, मिठाई, कार्बोनेटेड या एनर्जी ड्रिंक, केक, पेस्ट्री, बिस्कुट आदि से बचने की कोशिश करें।

(और पढ़ें - जंक फूड के नुकसान)

पैकेज्ड और प्रोसेस्ड फूड - Avoid packaged and processed food in sciatica pain in Hindi

इन खाद्य विकल्पों में ट्रांस फैट, खराब गुणवत्ता वाले बीजों का तेल और सोडियम की उच्च मात्रा होती है जो शरीर में सूजन और पानी के संग्रहण को बढ़ा सकते हैं। यह इस बीमारी की स्थिति को और खराब कर सकते हैं। इसलिए सभी पैकेज्ड और प्रोसेस्ड फूड (जैम, जेली, रेडी-टू-ईट फूड, ब्रेकफास्ट सीरियल्स) से बचने की कोशिश करें और ताजा घर का बना भोजन लें।

(और पढ़ें - सोडियम की कमी के लक्षण)

शराब - Alcohol can be harmful to sciatica pain in Hindi

एक शोध अध्ययन से पता चला है कि शराब का सेवन करने वाले लोगों में इन्फ्लेमेंट्री मार्कर, सीआरपी का स्तर सामान्य की तुलना में बढ़ जाता है। जिन लोगों ने जितना अधिक शराब का सेवन किया, उनके सीआरपी स्तर में उतनी ही ज्यादा स्तर में वृद्धि देखी गई। ऐसे में शराब का सेवन करने से सूजन और साइटिका का दर्द बढ़ सकता है। इसलिए शराब का प्रयोग जल्द से जल्द बंद कर दें एवं इसकी जगह तलब होने पर अन्य पेय जैसे कि आम पन्ना, नींबू पानी आदि का प्रयोग करें।

(और पढ़ें - सीआरपी ब्लड टेस्ट क्या होता है)

यहां हमने साइटिका के दर्द के रोगी के लिए एक नमूने के रूप में डाइट प्लान साझा किया है। आप अपने दैनिक आहार के रूप में इस योजना का प्रयोग करके लाभ ले सकते हैं :

  • सुबह खाली पेट - गर्म पानी (1 गिलास) + अखरोट (5-7)
  • सुबह का नाश्ता - दलिया (1-2 कटोरी) + पपीता स्मूदी (1 गिलास)
  • मध्य आहार - संतरा (1)
  • दोपहर का भोजन - ज्वार की रोटी (2) + सोया / मछली की सब्जी (1 कटोरी) + मिश्रित सब्जी (1 कटोरी) + हरा सलाद (1 मध्यम प्लेट)
  • शाम की चाय - हर्बल टी (1 कप) + भुने हुए बीज और मेवे (1 बड़ा चम्मच)
  • रात का भोजन - सब्जियों का सूप (1 कटोरी) + मटर पुलाव (1 कटोरी) + कम वसा युक्त पनीर करी (1 कटोरी)
  • सोते समय - हल्दी वाला दूध (1 गिलास)
Dt. Akanksha Mishra

Dt. Akanksha Mishra

पोषणविद्‍
8 वर्षों का अनुभव

Surbhi Singh

Surbhi Singh

पोषणविद्‍
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Avtar Singh Kochar

Dr. Avtar Singh Kochar

पोषणविद्‍
20 वर्षों का अनुभव

Dr. priyamwada

Dr. priyamwada

पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Hwang Joon-Ho, Lim Sang-Bin L. Antioxidant and Anti-inflammatory Activities of Broccoli Florets in LPS-stimulated RAW 264.7 Cells. Prev Nutr Food Sci. 2014 Jun; 19(2): 89–97. PMID: 25054107
  2. Forouzanfar Fatemeh, Hosseinzadeh Hossein. Medicinal herbs in the treatment of neuropathic pain: a review. Iran J Basic Med Sci. 2018 Apr; 21(4): 347–358. PMID: 29796216
  3. Pavan Rajendra, Jain Sapna, Shraddha, Kumar Ajay. Properties and Therapeutic Application of Bromelain: A Review. Biotechnol Res Int. 2012; 2012: 976203. PMID: 23304525
  4. Renno Waleed M, et al. Green tea pain modulating effect in sciatic nerve chronic constriction injury rat model. Nutr Neurosci . Feb-Apr 2006;9(1-2):41-7. PMID: 16910169
  5. Oliveira Andreia, Rodríguez-Artalejo Fernando, Lopes Carla. Alcohol intake and systemic markers of inflammation--shape of the association according to sex and body mass index. Alcohol Alcohol . Mar-Apr 2010;45(2):119-25. PMID: 20083478
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ