myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भावस्था एक ऐसा समय होता है जब गर्भवती महिला को अपने आहार के प्रति ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होती है। गर्भवती के आहार में सभी पोषक तत्वों का होना आवश्यक होता है। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान खीरा खाया जा सकता है या नहीं? आज इस लेख के जरिये जानेंगे कि गर्भावस्था में खीरा खाना सुरक्षित है या नहीं?

खीरा वजन घटाने का एक बेहतर उपाय है खासकर तब जब गर्भावस्था की बात हो रही हो। पोषक तत्वों से भरपूर होने के अलावा खीरा महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है।

(और पढ़ें - वजन घटाने के उपाय)

खीरे सबसे कम कैलोरी वाले स्नैक्स होते हैं। गर्भावस्था में पानी की कमी को पूरा करने की आवश्यकता होती है और ऐसे में खीरा फायदेमंद साबित होता है। हम सभी जानते हैं कि खीरा शरीर को नमी प्रदान करता है। आइए जानें कि गर्भवती होने पर हम खीरे का सेवन कर सकते हैं या नहीं?

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए)

  1. गर्भावस्था में खीरा खाने के फायदे - Pregnancy mein kheera khane ke laabh
  2. गर्भावस्था में खीरा खाने के नुकसान - Pregnancy mein kheera khane ke nuksan
  3. गर्भावस्था में खीरे को कैसे और कितना खाएं - Pregnancy mein kheere ko kaise aur kitna khaye
  4. गर्भावस्था में खीरा खाने की सावधानियां - Pregnancy mein kheera khane ki savdhaniyan

गर्भावस्था में खीरा खाने के निम्नलिखित फायदे हो सकते हैं:

(और पढ़ें - क्या गर्भावस्था में अनार खाना चाहिए)

खीरा खाने के निम्नलिखित नुकसान भी हो सकते है:

  • खीरा खाने से अपच और पेट में दर्द भी हो सकता है।
  • खीरे के अधिक सेवन से बार-बार पेशाब आने की वजह से तिमाही में असहजता महसूस हो सकती है।
  • अगर किसी को खीरे से एलर्जी है तो उसे गर्भावस्था में खीरे के सेवन से खुजली और सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
  • खीरे में पाए जाने वाले कुकुरबिटेसी और टेट्रासाइक्लिन टरपेनोइड्स नामक विषाक्त पदार्थों के कारण खीरे का स्वाद कड़वा होता है इसलिए ज्यादा मात्रा में खीरा खाना जानलेवा साबित हो सकता है।  
  • खीरे में अधिक पोटेशियम की मात्रा के कारण खीरे के अधिक सेवन से पेट में ऐंठन, सूजन के साथ-साथ गुर्दे में भी समस्या उतपन्न हो सकती है।

(और पढ़ें - क्या गर्भावस्था में आम खाना चाहिए)

खीरे को सलाद, रायता, स्नैक्स और स्मूदी आदि के रूप में खा सकते हैं। खीरे में नमक लगाकर लगभग 30 मिनट के लिए फ्रिज में रख दें इससे खीरे का स्वाद और बढ़ जाता है। गर्भावस्था में खीरे के सेवन से एलर्जी हो सकती है इसलिए कोशिश करना चाहिए की खीरे का अतिसेवन न किया जाए। खीरे को सीमित मात्रा में खाना ही स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। अगर किसी गर्भवती स्त्री को कोलाइटिस, लम्बे समय से किडनी में सूजन, पायलोनेफ्राइटिस, हेपेटाइटिस या गैस्ट्राइटिस है तो उसे खीरे के सेवन की सलाह बिल्कुल नहीं दी जाती। ऐसे में खीरा अधिक नुकसानदेह हो सकता है।

गर्भावस्था में खीरा खाने में निम्नलिखित सावधानियां रखें:

  • खीरे को खाने से पहले अच्छी तरह से धो लेना चाहिए क्योंकि बाजार से लाए गए खीरों में धूल और बैक्टीरिया हो सकते हैं।
  • बाजार में मिलने वाले कटे और खुले फलों से परहेज करना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती को अधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है खासकर खानपान को लेकर, इसलिए सभी अन्य पौष्टिक खाद्य पदार्थों की तरह खीरे को भी सोच-समझकर ही खाना चाहिए। उचित यही रहेगा की खीरे को गर्भावस्था में आहार का हिस्सा बनाने के पूर्व डॉक्टर से परामर्श कर लिया जाए। 

(और पढ़ें  - क्या गर्भावस्था में अदरक का सेवन कर सकते हैं)

और पढ़ें ...