myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बच्चों की लम्बाई को लेकर आज के दौर में अधिकतर माता-पिता चिंतित रहते हैं। आपको बता दें कि बच्चों की लम्बाई के बढ़ने के पीछे कई कारक जिम्मेदार होते हैं। बच्चों की लम्बाई 60 से 80 प्रतिशत आनुवांशिक गुणों के आधार पर ही तय होती है। इसके अलावा बच्चों की बाकि लम्बाई उसके खानपान, एक्सरसाइज व दिनचर्या पर निर्भर करती है।

एक साल से किशोरावस्था तक अधिकतर बच्चों की लम्बाई प्रति वर्ष करीब 2 इंच बढ़ती है, जबकि किशोरावस्था की शुरुआत के बाद बच्चों की लम्बाई हर वर्ष करीब 4 इंच बढ़ने लगती है। ऐसा नहीं हैं कि सभी बच्चे एक निश्चित दर से बढ़ते हैं। हर बच्चे की लम्बाई बढ़ने की गति अलग-अलग हो सकती है।

(और पढ़ें - बच्चों का टीकाकरण चार्ट)

माता-पिता अपने बच्चे को तेजी से बढ़ता हुए देखना चाहते हैं और इसके लिए वह बच्चे की लम्बाई को लेकर खासे परेशान भी रहते हैं। इतना ही नहीं वह बच्चे की लम्बाई को बढ़ाने के लिए कई तरह के उपायों को भी खोजने लगते हैं।

आप सभी की इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए इस लेख में आपको बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के उपाय के बारे में बताया गया है। साथ ही आप बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के तरीके, बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के घरेलू नुस्खे, बच्चों की लम्बाई कैसे बढ़ाये, बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए क्या खिलाएं और बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए एक्सरसाइज आदि के बारे में भी विस्तार से बताया गया है।

(और पढ़ें - बच्चों की देखभाल कैसे करें)

  1. बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के उपाय - Baccho ki lambai badhane ke upay
  2. बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के घरेलू नुस्खे - Baccho ki lambai badhane ke gharelu nukshe
  3. बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के लिए एक्सरसाइज - Baccho ki lambai badhane ke liye excercise
  4. बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए क्या खिलाएं - Baccho ki lambai ko badhane ke liye kya khilaye
  5. बच्चे की लंबाई को दुष्प्रभाव पहुंचाने वाले कारक - Bacche ki lambai ko dusprabhav pahuchane vale karak

बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के उपाय में शामिल हैं स्वस्थ दिनचर्या - Baccho ki lambai badhane ke upay me shamil hai healthy lifestyle

बच्चों की लम्बाई बढ़ने की गति उनकी दिनचर्या पर निर्भर करती है। एक परिवार के रूप में आप जिस जीवनशैली को अपनाते हैं, उसका सीधा असर आपके बच्चे के विकास और लम्बाई पर पड़ता है। बच्चे को खेलकूद के लिए प्रोत्साहित करें।

एक ही जगह बैठ रहने से बच्चा सुस्त हो जाता है, इससे बचने के लिए आप अन्य बच्चों के साथ मिलकर अपने बच्चे को खेलने के लिए कहें। आप बच्चे को किसी कैंप या एक्टिविटी क्लासेस (activity classes) भेजें। इसके अलावा आप ध्यान दें कि बच्चा बाहर के खाने की बजाय घर का बना खाना ही खाएं।

(और पढ़ें - बच्चों को सिखाएं अच्छी सेहत के लिए अच्छी आदतें)

बच्चों की लम्बाई बढ़ाने का तरीका है पर्याप्त नींद - Baccho ki lambai badhane ka tarika hai nind

पर्याप्त नींद लेना बच्चों और बड़ों दोनों के लिए ही फायदेमंद होता है। इससे बच्चों का तनाव कम होता है। कभी कभार पूरी नींद न लेना बच्चे के विकास पर प्रभाव नहीं डालता है। लेकिन आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि अधिकांश आपका बच्चा आठ घंटों की पूरी नींद लें। इससे बच्चे स्वस्थ्य रहते हैं और उनकी लम्बाई तेजी से बढ़ती है।

(और पढ़ें - अच्छी नींद के उपाय)

ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि बच्चों में नींद के दौरान ही ग्रोथ हार्मोन, 'एचजीएच' स्त्रावित होता है। यह हार्मोन सीधे तौर पर आपके बच्चे की लम्बाई के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इसलिए यदि आपका बच्चा पर्याप्त नींद नहीं ले पा रहा है तो आप उसकी नींद को पूरा करने के लिए उसको दिन में भी सुला सकती है।

(और पढ़ें - ग्रोथ हार्मोन बढ़ाने के उपाय​)

बच्चों की लम्बाई बढ़ाने का घरेलू नुस्खा है संतुलित आहार - Baccho ki lambai badhane ka gharelu nuksha hai balance diet

बच्चों की लम्बाई को बढ़ाने के लिए आपको उसके आहार में पोषक तत्वों को शामिल करना होगा। स्वस्थ और संतुलित आहार को लेने से बच्चा तेजी से लंबा होता है। इसके लिए आपको बच्चे की डाइट में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, फैट और विटामिन्स को सही मात्रा में शामिल करना चाहिए। केवल एक ही चीज बच्चे को ज्यादा देने से उसकी सेहत पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकते हैं।

जिंक बच्चे की लम्बाई को बढ़ाने में फायदेमंद होता है, इसके लिए आपको जिंक फूड जैसे स्क्वैश के बीज और मूंगफली को बच्चे की डाइट में शामिल करना चाहिए। संतुलित आहार बच्चे की लंबाई के साथ ही उसको अंदरुनी रूप से भी मजबूती प्रदान करता है। 

(और पढ़ें - 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाएं)  

छोटे बच्चों की लंबाई बढ़ाने का तरीका है योग - Chhote baccho ki lambai badhane ka tarika hai yoga

स्वास्थ्य संबंधी समस्या और परेशानियों को दूर करने व रोगों से बचाव के लिए योग किया जाता है। योगा न आपको सिर्फ बीमारियों से दूर रखता है, बल्कि यह सेहत के लिए कई तरह से फायेदमंद भी होता है।

कई तरह के योगासन बच्चों की लंबाई को बढ़ाने में मददगार साबित होते हैं। योगासनों में सूर्य नमस्कार आसन एक ऐसा आसान है जो बच्चे के पूरे शरीर में खिंचाव उत्पन्न करके लंबाई को बढ़ाने में सहायक होता है। लेकिन किसी भी आसन को करने से पहले बच्चे को कुछ समय के लिए सांसों के व्यायाम करवाएं।

(और पढ़ें - प्राणायाम कैसे करें)

योगासनों में चक्रासन, ताड़ासन, वृक्षासन और सर्वांगासन आदि कुछ ऐसे आसन हैं जो बच्चे के शरीर में खिंचाव लाते हैं। लेकिन ये आसन किसी ट्रेंड ट्रेनर से सिखने के बाद ही बच्चों को करवाने चाहिए, क्योंकि योग करने का विशेष तरीका होता है। 

(और पढ़ें - बच्चे की उम्र के अनुसार लंबाई कितनी होनी चाहिए)

बच्चे की लम्बाई बढ़ाने के लिए उसको स्विमिंग कराएं - Baccho ki lambai badhane ke liye usko swimming karaye

बच्चों को स्विमिंग कराने से भी उनकी लम्बाई पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। आपको बता दें कि बच्चों को एक्टिव रखने का यह एक बेहतर विकल्प माना जाता है। इससे बच्चे के पूरे शरीर की एक्सरसाइज होती है और यह बच्चे के शरीर की सभी मांसपेशियों को सक्रिय करती है।

स्विमिंग लंबे समय तक बच्चे की अतिरिक्त वसा को कम करके, उसको स्वस्थ बनाती है। स्विमिंग में शरीर के खिंचाव वाली कई एक्सरसाइज शामिल होती है, जो बच्चे की लम्बाई को बढ़ाने में सहायक होती हैं। अधिकतर बच्चों को स्विमिंग करना पसंद होता है। 

(और पढ़ें - स्विमिंग के दौरान इस तरह बरतें सावधानी)

बच्चों की लम्बाई को बढ़ाने के लिए रोप स्किपिंग - Baccho ki lambai ko badhane ke liye rope skipping

रोप स्किपिंग को ही रस्सा कूद कहते हैं। आपने अधिकतर छोटी लड़कियों को रस्सा कूद खेलते हुए देखा होगा। जिम जाने वाले लोग भी इसको अपनी एक्सरसाइज रूटिन में शामिल करते हैं। रस्सी कूदने के कई फायदे होते हैं और यह एक्सरसाइज बच्चे के पूरे शरीर पर प्रभाव दिखाती है।

रस्सी कूदना न सिर्फ बच्चे की लम्बाई बढ़ाने में सहायक होता है, बल्कि यह हृदय को स्वस्थ रखने का भी काम करता है। रस्सी कूदते समय पूरे शरीर में खिंचाव होता है और बच्चे की लंबाई बढ़ती है। यह एक बेहतर कार्डियो एक्सरसाइज है, जिससे आपका बच्चा फिट और एक्टिव बनता है।

(और पढ़ें - शिशु को खांसी होने पर क्या करें)

बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के लिए उसको लटकाएं - Baccho ki lambai ko badhane ke liye usko latkaye

बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के लिए उनको किसी बच्चों के लिए बने बार या पोल पर लटकने के लिए प्रेरित करें। लटकने से बच्चे की रीढ़ की हड्डी पर खिंचाव पड़ता है, जिससे बच्चे की लंबाई बढ़ने में मदद मिलती है। बच्चे को लटकने के साथ-साथ पुल अप और चिन अप करने के लिए भी कहें। शुरू-शुरू में आप कमर से पकड़ कर बच्चे को सहारा दे सकते हैं ताकि उसे डर न लगे। इस तरह से बच्चे की भुजाएं और पीठ मजबूत बनती है और बच्चा फिट रहता है।

(और पढ़ें - बच्चों के दांत निकलने की उम्र)

बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए उसे डेयरी उत्पाद खिलाएं - Baccho ki lambai ko badhane ke liye usai dairy product khilaye

बच्चे की लंबाई को प्राकृतिक रूप से बढ़ाने के लिए आप उसको दूध से बनी चीजे खिलाएं। डेयरी उत्पाद जैसे चीज, पनीर, दही आदि में अधिक मात्रा में विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन डी, विटामिन ई के साथ प्रोटीन और कैल्शियम होता है। विटामिन डी और कैल्शियम मुख्य रूप से बच्चे की लंबाई को बढ़ाने के लिए उपयोगी होते हैं।

(और पढ़ें - एक साल के बच्चे को क्या खिलाना चाहिए)

बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए सोयाबीन और केला दें - Baccho ki lambai badhane ke liye soyabean aur banana de

सोयाबीन में बच्चे की सेहत और लंबाई बढ़ाने वाले गुण पाये जाते हैं। इसमें प्रोटीन, फोलेट, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर मौजूद होते हैं। शाकाहार में यह प्रोटीन का एक बेहतर विकल्प माना जाता है। सोयाबीन से बनने वाला टोफू भी काफी फायदेमंद होता है।

(और पढ़ें - बच्चों को मोटा करने के उपाय)

इसके अलावा केला भी बच्चे की लंबाई को बढ़ाने में मददगार होता है। केले में पोटैशियम, मैंगनीज और कैल्शियम पाया जाता है। बच्चे की लंबाई के साथ ही उसको स्वस्थ बनाने के लिए 6 माह की उम्र से ही केला दिया जा सकता है। 

(और पढ़ें - बच्चों की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं)

बच्चे की लंबाई को बढ़ाने के लिए उसे चिकन और अंडे खिलाएं - Baccho ki lambai badhane ke liye unko chicken aur eggs khilaye

अगर आप शाकाहारी नहीं हैं तो आप बच्चे के आहार में चिकन को भी शामिल कर सकते हैं। चिकन में अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। मांसहारी भोजन में चिकन को उच्चतम प्रोटीन विकल्प माना जाता है। बच्चे को चिकन देने से उसकी मांसपेशियों और ऊतकों को बनने में मदद मिलती है और बच्चे का विकास तेजी से होता है।

(और पढ़ें - बच्चों में भूख न लगने के कारण​)

अंडे में प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन बी 12 और रिबोफ्लेविन मौजूद होता है। इसको बच्चे की डाइड में शामिल करने से उसकी लंबाई तेजी से बढ़ती है। अंडे के सफेद हिस्से में 100 प्रतिशत प्रोटीन होता है, यदि आप फैट को इससे अलग करना चाहते हैं तो बच्चे को केवल सफेद हिस्सा ही खाने में दें। आप अलग-अलग तरह से अंडा बनाकर बच्चे को खाने के लिए दे सकती हैं, इसको हर रोज खाने से बच्चा मना भी नहीं करता है। 

(और पढ़ें - गर्मियों में कितने अंडे खाने चाहिए

बच्चे की लंबाई को बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों में निम्नलिखित को भी शामिल किया जाता है।

(और पढ़ें - शिशु का वजन कितना होना चाहिए)

बच्चे की लंबाई बढ़ते समय आपको उसके खानपान और अन्य आदतों के प्रति विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। आगे आपको बच्चे की लंबाई पर दुष्प्रभाव डालने वाले कारकों के बारे में बताया गया है।

  • बच्चे को ज्यादा चीनी, नमक, कॉफी, फैट व गैस युक्त पेय पदार्थ नहीं देने चाहिए। इस तत्वों को कैल्शियम में रुकावट करने वाले तत्व कहा जाता है, ये तत्व कैल्शियम के अवशोषण पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं। (और पढ़ें - रोते हुए बच्चे को कैसे शांत करें)
  • बच्चे के पास किसी को धूम्रपान नहीं करना चाहिए। इसका प्रभाव भी ब्च्चे के विकास पर पड़ता है। (और पढ़ें - बच्चे को चलना कैसे सिखाएं)
  • किसी तरह की दवा लेने का प्रभाव भी बच्चे की लंबाई व विकास पर पड़ता है।
  • खाने की खराब आदत भी बच्चे के स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव डालती हैं। 

(और पढ़ें - 2 साल के बच्चे को क्या खिलाएं)

और पढ़ें ...